रामपाल को जेल भेजा गया

रामपाल का आश्रम इमेज कॉपीरइट AFP

पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने रामपाल को 28 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

बुधवार रात क़रीब सवा नौ बजे हिसार के बरवाला में सतलोक आश्रम से गिरफ़्तार किए गए रामपाल को आज अदालत की अवहेलना के मामले में अदालत में पेश किया गया.

63 वर्षीय रामपाल ने अदालत में कहा कि उन्हें अपने श्रद्धालुओं की मौत पर दुख है.

हालांकि उन्होंने अपने समर्थकों को हफ़्तों तक मानव सुरक्षा कवच के रूप में इस्तेमाल करने के आरोपों से इनकार किया.

रामपाल के अधिवक्ताओं ने अदालत में तर्क दिया कि उन्हें आश्रम में बंधक बनाकर रखा गया था इसलिए ही वे अदालत में पेश नहीं हो पा रहे थे.

रिपोर्ट

Image caption बरवाला में रामपाल के आश्रम के बाहर कई कारों को भी आग लगा दी गई.

अदालत ने पुलिस से भी रामपाल को पकड़ने के अभियान के बारे में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

2006 में हुए क़त्ल के एक मामले में रामपाल को मिली ज़मानत भी रद्द कर दी गई.

पुलिस के मुताबिक रामपाल के पाँच सौ से अधिक समर्थकों को भी हिरासत में लिया गया है.

इनमें रामपाल की निजी सुरक्षा सेना के क़रीब 250 सदस्य भी शामिल हैं.

पुलिस के मुताबिक अभी भी क़रीब दो हज़ार श्रद्धालु बरवाला आश्रम में मौजूद हो सकते हैं.

उनसे बाहर निकलने का आह्वान किया जा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार