सुरक्षा से भयभीत हैं मोदी की पत्नी जशोदाबेन

जशोदाबेन इमेज कॉपीरइट deepa sidana
Image caption जशोदाबेन आरटीआई फ़ाइल करते हुए

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पत्नी जशोदाबेन सरकारी तौर पर दी गई सुरक्षा से परेशान हैं और अपने अधिकारों के बारे में जानना चाहती हैं.

जशोदाबेन ने मेहसाणा के पुलिस अधीक्षक से आरटीआई के ज़रिए ये जानकारी मांगी है.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, "यदि मुझे सिक्योरिटी दी गई है तो अन्य अधिकार भी मिलने चाहिए."

अपनी आरटीआई अर्ज़ी में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या का ज़िक्र करते हुए उनका कहना है कि उन्हें अपने सुरक्षा गार्ड्स से डर लगता है.

इससे पहले जशोदाबेन का नाम लोकसभा चुनावों के दौरान चर्चा में आया था जब वडोदरा से चुनाव लड़ रहे नरेंद्र मोदी ने अपने हलफ़नामे में पहली बार ख़ुद को शादीशुदा बताते हुए जशोदाबेन को अपनी पत्नी माना था.

अंकुर जैन की विस्तृत रिपोर्ट पढ़ें

'मुझे सुरक्षा क्यों दी है'

इमेज कॉपीरइट ANKUR JAIN

रिटायर्ड स्कूल टीचर की ज़िंदगी बसर कर रही जशोदाबेन गुजरात के ईश्वरवाड़ा गांव में अपने भाई के साथ रहती हैं.

अपनी आरटीआई अर्ज़ी में जशोदाबेन, "इंदिरा गांधी पर उनके बॉडीगार्ड्स ने हमला किया था और उन्हें मार दिया था. इस वजह से मुझे मेरा बॉडीगार्ड्स से डर लगता है, इसलिए मुझे इनकी तमाम जानकारी और उन्हें किस ऑर्डर पर मेरे साथ रखा गया है...मुझे उसकी कॉपी दें."

बीबीसी हिंदी से फ़ोन पर बात करते हुए जशोदाबेन ने कहा, "मुझे किस सरकारी ऑर्डर के तहत सुरक्षा दी गई है. मुझे यह प्रोटोकॉल क्यों मिला है? मुझे नियम के हिसाब से न्याय नहीं मिला है. यदि मुझे सिक्योरिटी दी गई है तो अन्य अधिकार भी मिलने चाहिए."

जशोदाबेन ने बीबीसी से कहा, "मुझे सुरक्षा कवच की वजह से बहुत परेशानी होती है, मैं सरकारी बस में सफर करती हूँ और मेरे साथ वाले सुरक्षाकर्मी कार में घूमते हैं. वे लोग साथ में होते हैं तो डर लगता है."

इमेज कॉपीरइट AP

नरेंद्र मोदी से कोई बातचीत पर जशोदाबेन कहती हैं, "मैंने पहले उन्हें कई बार पत्र लिखा है पर मुझे कभी कोई जवाब नहीं मिला. अगर वह मुझे दिल्ली बुलाएँगे तो मैं तैयार हूँ जाने के लिए."

'लोग मज़ाक उड़ाते हैं'

जशोदाबेन के छोटे भाई अशोक मोदी ने बीबीसी को फ़ोन पर बताया कि उनकी बहन की सुरक्षा में पांच-पांच गार्ड्स दो शिफ़्टों में तैनात रहते हैं.

इमेज कॉपीरइट deepa sidana
Image caption जशोदाबेन के भाई के अनुसार लोग उनका मज़ाक़ उड़ाते हैं.

यह पूछे जाने पर कि जशोदाबेन ने आरटीआई क्यों दाख़िल की है, अशोक मोदी ने कहा, "मेरी बहन को या तो सभी अधिकार मिलने चाहिए. सिक्योरिटी गार्ड्स गाड़ी में घूमते हैं और वे सरकारी बस में सफर करती हैं. लोग मज़ाक उड़ाते हैं और बहनोई (नरेंद्र मोदी) की बदनामी होती है."

जशोदाबेन ने आरटीआई में कहा है कि गार्ड्स उनसे महमान नवाज़ी की उम्मीद रखते हैं इसलिए उनकी भूमिका के बारे में नियम-कानून उन्हें बताए जाने चाहिए.

लोकसभा चुनावों के दौरान बीबीसी से हुई बातचीत में जशोदाबेन के परिवारवालों ने बताया था कि जशोदाबेन और मोदी की शादी रीति रिवाज़ों के मुताबिक हुई थी, पर शादी के तीन साल के बाद दोनों अलग हो गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार