आईएस की तरफ आकर्षण चिंता की बात: राजनाथ

राजनाथ सिंह इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय युवाओं का चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) की तरफ आकर्षित होना चिंता की बात है.

शनिवार को गुवाहाटी में एक पुलिस कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि सरकार ने इसे चुनौती के रूप में लिया है और इसे हल्के में नहीं लिया जा सकता.

उन्होंने कहा कि हालाँकि आईएस का प्रभाव सीरिया और इराक़ में है, लेकिन भारतीय उपमहाद्वीप इससे अछूता नहीं रह सकता.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ आईएस की तरफ से लड़ने के इरादा लेकर इराक़ गए मुंबई के एक युवक की स्वदेश वापसी के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) उनसे पूछताछ कर रही है.

उन्होंने कहा कि मुंबई के आरिफ़ मजीद को उत्पीड़न के इरादे से गिरफ़्तार नहीं किया गया है.

'मुसलमान देशभक्त'

राजनाथ ने कहा कि कई चरमपंथी संगठन समझते हैं कि भारत में मुस्लिमों की बड़ी आबादी को देखते हुए वे उनमें से कई को अपने गुटों में शामिल कर लेंगे.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट का प्रभाव अभी सीरिया और इराक में है.

उन्होंने कहा, "लेकिन भारतीय मुसलमान देशभक्त हैं और आज़ादी के बाद से ही वे अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए लड़ रहे हैं. भारतीय मुसलमान हमेशा से ही देश की सुरक्षा और संप्रभुता के लिए लड़ने के लिए तैयार रहे हैं. इसलिए ये आतंकवादी संगठन सफल नहीं हो पाएंगे."

चरमपंथी संगठन अल क़ायदा की भारतीय उपमहाद्वीप के लिए अलग शाखा 'क़ायदा उल जिहाद' बनाने की धमकी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस चरमपंथी संगठन का उद्देश्य बांग्लादेश, असम, गुजरात, जम्मू-कश्मीर और देश के अन्य हिस्सों में अपना जाल फैलाना है, लेकिन इसे नहीं होने दिया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार