नसबंदी से तबाह, अब मुआवज़े को लेकर बंटे

छत्तीसगढ़, नसबंदी में मृत महिला का परिवार इमेज कॉपीरइट Alok Putul

छत्तीसगढ़ में बिलासपुर नसबंदी कांड में 10 से 15 नवंबर के बीच 13 महिलाओं की मौत हो गई थी. इन सबके परिजनों को सरकार ने चार-चार लाख रुपए का मुआवजा बांटा है.

साथ ही मृतक महिलाओं के प्रत्येक बच्चे के नाम से तीन-तीन लाख रुपए के फिक्स्ड डिपॉज़िट करने का भी काम सरकार ने शुरू किया है.

यही मुआवजा और फिक्स्ड डिपॉज़िट, अब परिवारों के बीच झगड़े का कारण बन गया है. मायके और ससुराल वाले एक-दूसरे के आमने-सामने आ गए हैं.

विस्तृत रिपोर्ट पढ़ें

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

बिलासपुर के नसबंदी कांड में मारी गई महिलाओं के परिवारों में अब फूट पड़ने लगी है.

मुआवजे की रक़म क्या बंटी, परिवार बंटने लगे हैं. कल तक जो दामाद आंखों का तारा था, वह अब फूटी आंख नहीं सुहा रहा है.

बच्चों को चाची, ताई, बुआ और दादी पालना चाहती हैं तो अपनी मृतक बेटी-बहन का हवाला देकर नानी, मौसी और मामियां भी बच्चों को उनके हवाले करने की मांग कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

अपनी बेटी को खोने वाली एक महिला से हमारी मुलाक़ात 14 नवंबर को जब पहली बार हुई थी तो उनके पास अपने दामाद की प्रशंसा के दर्जनों उदाहरण थे. तब तक मृतक बेटी का एक बच्चा उन्हीं के पास था.

जिस दिन मुआवजा बंटा, उसके अगले ही दिन दामाद ससुराल पहुंच कर बच्चे को लेकर चलता बना.

हमने जब इस सप्ताह उस महिला से दोबारा मुलाक़ात की तो दामाद को लेकर वो फट पड़ीं.

उन्होंने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, "पक्के से जानती हूं कि उसके मन में क्या चल रहा है. मुझे तो पहले से ही शक था. पैसा मिल गया है, अब वो दूसरी शादी करेगा."

परिवारों की चिंता

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

मारी गई महिलाओं के मायके वालों में से अधिकांश को इस बात की आशंका सता रही है कि महिलाओं के पति साल-दो साल के भीतर दूसरी शादी कर लेंगे, क्योंकि बहुत से पतियों की उम्र 35 साल से कम है.

इसके अलावा जिस समाज से वे आते हैं, वहां दोबारा शादी भी मान्य है.

दूसरी ओर, मारी गई महिलाओं के पति ऐसी आशंकाओं को क्रूर बताते हुए यही दावा करते हैं कि अब तो सारा समय इन बच्चों को पालने में ही जाएगा.

अपने चार महीने के बच्चे को गोद में संभाले जगदीश निर्मलकर की ढाई साल की एक और बेटी है. दोनों बच्चे अब उनके ही पास हैं.

वे कहते हैं, "बच्चों को संभालूं कि रोजी-मज़दूरी करूं. अब तो मेरे पास केवल यही चारा है कि मुआवजे की रक़म से कोई काम-धाम शुरू करके बच्चों का भविष्य बनाऊँ."

चेक और बच्चे

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

कोटा इलाके के रामस्वरूप के तीन बच्चे हैं. पत्नी शांति की मौत के बाद उनके ससुर गोकुल मरकाम तीनों बच्चों को अपने साथ लेकर चले गए थे. दो लाख रुपए का चेक भी ससुर के पास ही था.

बाद में दो बच्चों को रामस्वरूप अपने साथ लेकर आ गए. लेकिन एक बच्चा और चेक ससुर के पास ही रह गया. ससुर का कहना है कि बच्चा अपने दादा-दादी के पास रहेगा.

रामस्वरूप कहते हैं, "ससुर चाहते हैं कि मैं अपना बैंक खाता उनके गांव के पास के बैंक में खुलवाऊँ, जिससे वे इस बात की खोज-खबर लेते रहें कि मैं बैंक से कितनी रक़म निकाल रहा हूं, पैसों का क्या कर रहा हूं"

टूट का ख़तरा

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

सामाजिक कार्यकर्ता प्रवीण पटेल का कहना है कि मुआवजे के कारण कई परिवार टूट सकते हैं. कल तक एक साथ रहने वाले बच्चे नाना-नानी और दादा-दादी के यहां बंट गए हैं.

प्रवीण पटेल कहते हैं, "यह समाज के लिए चिंता का विषय होना चाहिए कि ऐसी परिस्थितियां बन रही हैं, जिसमें बच्चों का भविष्य मुश्किल में नज़र आ रहा है. परिवार के साथ ही समाज को भी इस मुद्दे पर संवेदनशील होकर पहल करनी चाहिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार