छत्तीसगढ़: सिप्रोसिन खाने से एक की मौत

छत्तीसगढ़ में प्रतिबंधित सिप्रोसीन 500 टेबलेट खाने के बाद एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि मृतक की पत्नी को भी यही दवा खाने के बाद आईसीयू में रखा गया है.

बलौदा बाज़ार ज़िले के हसुआ गांव के लक्ष्मी साहू व उनकी पत्नी अमरीका बाई ने बुखार के बाद गांव के ही एक झोलाछाप डॉक्टर से दवा ली थी.

बाद में हालत बिगड़ी तो दोनों को तीन दिन पहले राजधानी रायपुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां उपचार के दौरान लक्ष्मी साहू की मौत हो गई, वहीं अमरीका बाई की हालत चिंताजनक बनी हुई है.

अमरीका बाई के भाई ने कहा, “दोनों को ही डॉक्टर ने सिप्रोसीन 500 दवा दी थी, जिसकी छह गोली लक्ष्मी साहू ने खाई थी, जबकि अमरीका ने 2 गोली खाई थी.”

Image caption छत्तीसगढ़ में इस दवा पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा कि सिप्रोसीन को लेकर इस तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

उन्होंने कहा, “हमने इस मामले में दवा बेचने वाले और इलाज करने वाले डॉक्टर को गिरफ्तार करने और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.”

दवा पर प्रतिबंध

पिछले महीने बिलासपुर ज़िले में नसबंदी शिविर के बाद 13 महिलाओं समेत 18 लोगों की मौत हो गई थी. सरकार का दावा है कि इन सभी की मौत मेसर्स महावर फ़ार्मा प्राइवेट लिमिटेड की सिप्रोफ़्लॉक्सेसिन के ब्रांड सिप्रोसीन-500 टैबलेट खाने से हुई थी.

सरकारी जांच में इस दवा में कई ज़हरीले रसायन मिले थे.

इस मामले में कंपनी के मालिकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था. साथ ही सरकार ने सिप्रोसीन 500 समेत 12 दवा और चिकित्सा सामग्रियों पर प्रतिबंध लगा दिया था.

सरकार ने पूरे राज्य में सिप्रोसीन दवा को ज़ब्त करने के लिये सघन अभियान भी चलाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार