आगरा धर्मांतरण मामले में एफ़आईआर दर्ज

आगरा, धर्मांतरण इमेज कॉपीरइट VIVEK JAIN
Image caption पुलिस को ज्ञापन देते उत्तर प्रदेश के सर्वदलीय मुस्लिम एक्शन कमेटी के सदस्य.

आगरा पुलिस ने हाल में वहाँ हुए 57 लोगों के धर्मांतरण के मामले में प्रथमिकी दर्ज कर ली है.

सोमवार को आगरा के बाहरी इलाके देवनगर में शिवसेना और बजरंगदल के कार्यकर्ताओं ने मुस्लिम समाज के 57 लोगों को हवन में आहूति दिलाकर औपचारिक तौर पर धर्म परिवर्तन कराया था.

बुधवार को मुस्लिम समाज के कई संगठनों ने धर्मांतरण के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन करते हुए मंटोला चौराहे पर जाम लगा दिया.

संगठन के नेताओं ने मौके पर पहुंचे अपर जिलाधिकारी राजेश श्रीवास्तव को ज्ञापन सौंपा.

एफ़आईआर

इमेज कॉपीरइट VIVEK JAIN
Image caption धर्म परिवर्तन के मामले को लेकर मंटोला में जाम लगाते मुस्लिम समाज के लोग.

अपर ज़िलाधाकारी राजेश श्रीवास्तव ने मुसलमानों के एक प्रतिनिधिमंडल को विश्वास दिलाया है कि अगर क़ानून का उल्लंघन हुआ है तो सख़्त कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने कहा ऐसी ख़बर मिलने के तुरंत बाद मंगलवार को देर रात ही इस संबध में एफ़आईआर दर्ज कर ली गई थी.

इस बीच कई हिंदूवादी संगठनों ने एलान किया है कि 25 दिसंबर को अलीगढ़ में पांच हज़ार मुसलमानों ईसाइयों का धर्म परिवर्तन कराया जाएगा.

शिवसेना आगरा के जिला प्रमुख वीनू लवानिया का कहना है कि लोगों ने अपनी इच्छा से धर्म परिवर्तन किया है.

उन्होंने बताया कि ये सभी लोग बंगाल के रहने वाले हैं और नागरिकता चाहते हैं. इनके शपथ पत्र और वीडियोग्राफी उनके पास है.

प्रशासन सतर्क

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption आगरा धर्मांतरण मामले पर संसद में भी हंगामा हुआ.

हालांकि धर्म परिवर्तन किए लोगों ने पहले इसे अपनी 'स्वेच्छा' बताया था, लेकिन मंगलवार को उन्होंने कहा कि उन्हें गुमराह किया गया था.

शांति बनाए रखने को लेकर ज़िला प्रशासन सतर्कता बरत रहा है.

अपर जिलाधिकारी राजेश श्रीवास्तव ने कहा, "मामले की जांच की जा रही है और इसके बाद कार्रवाई की जाएगी. किसी धर्म के व्यक्ति को गुमराह कर उसका धर्म परिवर्तन कराना ग़लत है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार