सिडनी में डरे मुसलमानों के साथ ट्वीटर

सिडनी, बंधक इमेज कॉपीरइट AFP

सिडनी के बंधक कांड में सुरक्षा बलों के अभियान के साथ ही एक मुहिम ट्विटर पर भी चल रही है जिसका मकसद है डरे मुसलमानों के साथ चलना .

सिडनी के एक कैफ़े में बंधकों को हमलावर ने एक झंडा उठाने के लिए कहा जिस पर अरबी भाषा में कुछ लिखा है.

इमेज कॉपीरइट epa

आशंका है कि कैफ़े में लोगों को बंधक बनाने वाले शख़्स मुस्लिम चरमपंथियों या उनकी विचारधारा से प्रभावित हो.ऐसे में शहर के आम मुसलमानों को शक की निगाह से न देखा जाए इसलिए ट्विटर पर मुहिम शुरू हो गई है.

हैश टैग #Iillridewithyou (आईविलराइडविथयू) के साथ लोग नस्लभेद के विरोध में खुल कर सामने आ रहे हैं. ये कोशिश महज इसलिए है कि कहीं मुसलमानों को निशाना ना बनाया जाए. सिर्फ़ सिडनी ही नहीं ऑस्ट्रेलिया के बाहर से भी लोग इस मुहिम के समर्थन में सामने आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

ट्विटर पर डेल ईरानी ने लिखा है, "लोग नस्लभेद रोकने के लिए मुसलमानों के साथ सार्वजनिक परिवहन में साथ आने की बात कह रहे हैं. मुझे ऑस्ट्रेलियाई होने पर गर्व है."

इमेज कॉपीरइट Getty

इसी तरह अली ए माहदी कहते हैं, "जिसने भी आईविलराइडविथयू शुरू किया है उसे शुक्रिया. आपने हमें याद दिला दिया कि नफ़रत को हराना कितना आसान है."

लोग लगातार इसके समर्थन में आगे आ रहे हैं और इसे बेहद ज़रूरी बता रहे हैं. लोगों के ज़ेहन में 11 सितंबर को न्यूयॉर्क पर हुए हमले की याद ताज़ा है जब मुस्लिमों और सिक्खों को अमरीकी लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार