येरवडा जेल में क़ैदियों का एफ़एम स्टेशन

इमेज कॉपीरइट Devidas Deshpande

‘नमस्कार, जेल रेडियो के इस प्रसारण में आप सब का स्वागत है.…… ’.

यह प्रसारण पुणे की येरवडा जेल से हो रहा है और एक बड़े इलाक़े में लोग अपने कानों में ट्रांज़िस्टर लगाकर इसे शौक़ से सुन रहे हैं.

यह अपने आप में एक अनोखा एफ़एम स्टेशन है क्योंकि इसके 'रेडियो-जॉकी' आम उद्घोषक नहीं बल्कि जेल में बंद क़ैदी हैं.

येरवडा जेल का यह रेडियो स्टेशन दरअसल कम्यूनिटी रेडियो है और इसका नाम 'वायसीपी रेडियो' स्टेशन रखा गया है.

जेल में बंद क़ैदी अपनी पसंद के गाने प्रसारित करते हैं और कई ऐसे कार्यक्रम हैं जो वो खुद बनाते हैं. जेल में इस तरह का प्रयोग करने वाली येरवडा महाराष्ट्र की पहली सेंट्रल जेल है.

महाराष्ट्र सरकार के अधिकारियों का कहना है कि अगर यह प्रयोग इस जेल में सफल हो जाता है तो इस तरह की पहल महाराष्ट्र की अन्य जेलों में भी की जाएगी.

इस नए और अनोखे रेडियो स्टेशन का उद्घाटन अभिनेत्री रानी मुखर्जी ने किया.

एक घंटे का प्रसारण

महाराष्ट्र सरकार में जेल विभाग के प्रमुख मीरा बोरवणकर ने बताया, “येरवडा जेल राज्य में सबसे बड़ा जेल है जहां कुल मिलाकर 3500 क़ैदी है. जेल में स्थित लाऊडस्पीकर से इसका प्रसारण होता है और दोपहर 12 से 1 बजे तक क़ैदी इसे सुन पाते हैं. इस दौरान बाकी सब काम बंद होता है.”

जेल अधीक्षक योगेश देसाई ने कहा, "इस एक घंटे के प्रसारण में मनोरंजक कार्यक्रम, भजन, चुटकुले, संगीत सुनाया जाता है. साथ ही क़ैदियों को कानूनी जानकारी, मशहूर लोगों के साक्षात्कार आदि कार्यक्रम प्रसारित होते हैं."

प्रसारण के लिए दो रेडियो जॉकी (आरजे) तैयार किए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हालांकि जेल अधिकारियों ने इस केंद्र के बारे में पूरी गोपनीयता रखी है. यहां तक कि इसके उद्घाटन समारोह में भी संवाददाताओं को अनुमति नहीं दी गई.

जेल अधीक्षक देसाई ने बताया, "यह संभव है कि जेल में सज़ा भुगत रहे अभिनेता संजय दत्त को भी रेडियो जॉकी के रुप में काम दिया जा सके. तब आरजे के तौर पर संजय दत्त क़ैदियों से संवाद कर पाएंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार