केरल: पर्यटन पर असर, शराबबंदी में ढील

शराब इमेज कॉपीरइट AP

कुछ महीने पहले शराब बेचने पर प्रतिबंध लगाने वाली केरल सरकार ने नौकरियों और पर्यटन पर हुए असर का हवाला देते हुए शराब बिक्री की नीति में बदलाव किए हैं.

फ़िलहाल पाँच सितारा होटलों में शराब बिक सकती है. ग़ैर-पाँच सितारा, छोटे होटलों-बारों में 730 में से 418 के अप्रैल में लाइसेंस दोबारा जारी नहीं किए गए थे.

स्थानीय पत्रकार अशरफ़ पादन्ना के अनुसार, हाई कोर्ट ने 730 में से जिन 312 बारों को जारी रखने की इजाज़त दी थी, उन्हें अब सशर्त बियर और वाइन बेचने की इजाज़त दी जाएगी.

रविवार को भी होगी बिक्री

मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने कहा है कि शराब की दुकानें अब रविवार को भी खुली रहेंगी.

उनका कहना है, "जबसे राज्य में बार बंद किए गए हैं, हज़ारों लोगों की नौकरियां चली गई हैं और 10 लोगों ने आत्महत्या की है. होटल क़ारोबारियों को उसी क्षेत्र के बेरोज़गार हुए लोगों को नौकरी देनी चाहिेए."

केरल के 229 अरब रुपए के पर्यटन उद्योग पर शराब नीति का ख़ास असर हुआ था. पर्यटन क्षेत्र के कारोबारी और विशेषज्ञ का अनुमान है कि कारोबार 30 प्रतिशत तक गिर गया है.

राज्य मे विपक्षी वाम मोर्चा ये स्पष्ट कर चुका है कि यदि वह सत्ता में आता है तो वो इस नीति पर पुनिर्विचार करेगा. इस नीति पर एक याचिका पहले ही कोरल में कोर्ट के विचाराधीन है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार