अमरीकी इतिहास का 'सबसे लंबा युद्ध ख़त्म'

जॉन कैंपबेल इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीकी जनरल जॉन कैंपबेल आईएसएएफ़ के कमांडर हैं

अमरीका राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के ख़िलाफ़ अंतरराष्ट्रीय युद्धक मिशन के समापन का स्वागत किया है.

राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि बीते 13 वर्षों के दौरान अमरीकी सेनाओं ने बड़ी कुर्बानियां दी हैं.

ओबामा के मुताबिक़ अमरीकी इतिहास में सबसे लंबे युद्ध का एक ज़िम्मेदार समापन हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ओबामा ने इस मिशन को अमरीकी इतिहास का सबसे लंबा युद्ध बताया है

इससे पहले रविवार को अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में हुए एक समारोह में अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा सहायता बल (आईएसएएफ़) को औपचारिक तौर पर ख़त्म कर दिया गया.

हालांकि आगे भी लगभग 13 हज़ार विदेशी सैनिक अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद रहेंगे जिनमें से अधिकतर अमरीकी होंगे, लेकिन उनकी युद्धक गतिविधियों में कोई भूमिका नहीं होगी. वो सिर्फ़ अफ़ग़ान बलों को प्रशिक्षण देंगे.

अफ़गानिस्तान से नैटो के जाने पर देश में मिली जुली प्रतिक्रिया आ रही है.

कुछ लोगों को लगता है कि देश में सुरक्षा के हालात गंभीर हैं और अंतरराष्ट्रीय सैनिकों को अफ़गान सुरक्षाबलों की मदद करने की ज़रूरत है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार