'जलियांवाला बाग़ से बदतर गोलीकांड': आयोग

इमेज कॉपीरइट AFP

साल 1993 में राइटर्स बिल्डिंग का घेराव कर रहे युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस फ़ायरिंग मामले की जांच कर रहे आयोग ने इसे 'जलियांवाला बाग से भी बदतर' ठहराया है.

आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति (रिटायर्ड) चटर्जी ने सोमवार को कोलकाता स्थित राज्य सचिवालय में पश्चिम बंगाल सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी.

आयोग ने उस घटना में मृत युवकों के परिजनों को 25-25 लाख और घायलों को पांच-पांच लाख रुपए मुआवज़ा देने का भी निर्देश दिया है.

गौरतलब है कि 21 जुलाई, 1993 को तत्कालीन युवा कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी ने राइटर्स बिल्डिंग (राज्य सचिवालय) अभियान की अगुआई की थी.

इस अभियान को रोकने के लिए पुलिस की फ़ायरिंग में युवा कांग्रेस के 13 कार्यकर्ता मारे गए थे और कई अन्य घायल हो गए थे.

ममता ने बंगाल में सत्ता संभालने के बाद उस घटना की जांच के लिए इस आयोग का गठन किया था.

इमेज कॉपीरइट indianyouthcongress

आयोग के अध्यक्ष ने सात सौ पेज की अपनी रिपोर्ट को सरकार को सौंपने से पहले उसे सार्वजनिक करते हुए मुख्य अंश भी पढ़ कर सुनाए.

उन्होंने कहा, "उस दिन युवा कांग्रेस के अभियान को रोकने के लिए पुलिस को गोलियां चलाने की कोई ज़रूरत नहीं थी. उस फ़ायरिंग के लिए उस दिन कोलकाता पुलिस के कंट्रोल रूम में ड्यूटी पर मौजूद अधिकारी ज़िम्मेदार हैं."

'75 राउंड गोलियां'

न्यायमूर्ति (रिटायर्ड) सुशांत चटर्जी ने कहा, "यह जालियांवाला बाग में हुए नरसंहार से भी बदतर है. पुलिस ने लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन कर रहे निर्दोष और निहत्थे युवकों पर गोलियां चलाई थीं."

रिपोर्ट में कहा गया है कि पुलिस ने युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर 75 राउंड गोलियां चलाई थीं.

इमेज कॉपीरइट westbengal.gov.in

ममता बनर्जी 1993 से ही इस गोलीकांड को लेकर सीपीएम के ख़िलाफ़ काफी आक्रामक रही हैं.

वे हर साल 21 जुलाई को उस घटना में मारे गए युवकों की याद में शहीद दिवस मनाती हैं.

ममता की मदद

ममता उस दिन मारे गए युवकों के परिजनों को आर्थिक सहायता भी देती रही हैं.

बाद में कांग्रेस से नाता तोड़ कर तृणमूल कांग्रेस के गठन के बाद भी हर साल 21 जुलाई को होने वाली रैलियों का सिलसिला जस का तस है.

इमेज कॉपीरइट PTI

1993 में कांग्रेस कार्यकर्ता वोटर परचिय पत्र बनाने की मांग कर रहे थे ताकि राज्य में मुक्त और निष्पक्ष चुनाव कराए जा सकें.

पुलिस ने राइटर्स बिल्डिंग से लगभग एक किलोमीटर पहले मेयो रोड और डोरिना क्रासिंग पर प्रदशर्नकारियों की भीड़ पर फ़ायरिंग की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार