बच्चों की देखभाल के लिए दो साल की छुट्टी

मां बच्चा इमेज कॉपीरइट AFP

बिहार सरकार ने महिला कर्मचारियों को शिशु की देखभाल के लिए छुट्टी यानी चाइल्ड केयर लीव देने का फ़ैसला किया है.

राज्य में चाइल्ड केयर लीव पहली बार लागू की गई है.

फ़ैसले के बारे में मंत्रिमंडल सचिवालय विभाग के प्रधान सचिव बी. प्रधान ने बताया कि सरकारी महिला कर्मचारी अपने पूरे कार्यकाल में अब बच्चों की देखभाल के लिए दो साल यानी 730 दिन का अवकाश ले सकती हैं.

मातृत्व अवकाश

इमेज कॉपीरइट AFP

साथ ही कैबिनेट ने मातृत्व अवकाश को 135 से बढ़ाकर 180 दिन करने का फ़ैसला लिया है. यानी महिलाओं को अब छह महीने की छुट्टी एक साथ मिल पाएगी.

बी. प्रधान के अनुसार शिशु देखभाल छुट्टी मातृत्व अवकाश के अलावा नहीं होगी. यानी कि दो साल में मातृत्व अवकाश की छुट्टियों के बाद जितने दिन बचेंगे महिला कर्मचारी उनका इस्तेमाल ही बच्चों की देखभाल के लिए कर सकेंगी.

बिहार में सरकारी महिला कर्मचारी दो बार मातृत्व अवकाश ले सकती हैं.

तीसरे या इससे अधिक बच्चों के मामले में क्या महिला कर्मचारियों को चाइल्ड केयर लीव मिलेगी?

इसके पर बी. प्रधान ने कहा कि अधिकारी मानवीय आधार पर इस बारे में फ़ैसला कर सकते हैं.

स्वागत

इमेज कॉपीरइट Getty

सरकारी कर्मचारी संगठनों के साथ-साथ महिला संगठनों ने भी इस फ़ैसले का स्वागत किया है.

बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी संघ की उपाध्यक्ष अनिता होर के अनुसार इस छुट्टी से महिला कर्मचारियों को अपनी पारिवारिक ज़िम्मेदारी निभाने में सहूलियत होगी.

निर्भया वीमेंस नेटवर्क की नीलू ने असंगठित क्षेत्र की महिलाओं को भी यह सुविधा देने के लिए क़ानून बनाने की मांग की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार