'मोदी के आने से फ़ासीवाद का ख़तरा बढ़ा'

अरविंद केजरीवाल इमेज कॉपीरइट Getty

आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष का दावा है कि दिल्ली विधानसभा के चुनाव में उनकी पार्टी की जीत होगी और दिल्ली में सरकार उन्हीं की पार्टी की बनेगी.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने दावा किया, "दिल्ली में हम सरकार बना लेंगे. हमें स्पष्ट बहुमत मिलेगा. हमारी पार्टी को 40 से 45 सीटें मिलने वाली हैं."

दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों के लिए चुनाव सात फ़रवरी को होगा और वोटों की गिनती 10 फ़रवरी को होगी.

आम आदमी पार्टी ने दिसंबर 2013 में होने वाले चुनाव में 28 सीटें हासिल की थीं, जो बीजेपी से तीन सीटें कम थीं.

बहुमत न होने पर बीजेपी ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया था तो आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाई. लेकिन 49 दिन सत्ता में रहने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस्तीफ़ा दे दिया था.

'मीडिया ने घुटने टेके'

आशुतोष ने कहा, "आप सारे पोल सर्वे देख लीजिए. 60 से 70 फ़ीसदी लोग हमारी अप्रूवल रेटिंग दे रहे हैं. केजरीवाल सबसे तगड़े उम्मीदवार हैं दिल्ली में. बीजेपी के पास तो मुख्यमंत्री का कोई उमीदवार भी नहीं है."

हाल में एक चुनावी भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केजरीवाल के बारे में कहा था कि वह अराजक हैं, नक्सली हैं.

इस पर आशुतोष कहते हैं, "उनके पास हमारे ख़िलाफ़ कहने के लिए कुछ नहीं है. हमारी गुडविल अच्छी है."

वह यह भी कहते हैं कि बीजेपी के एजेंडे में विकास नहीं हिंदुत्व है, "योगी आदित्यनाथ को ले लीजिए. धर्मांतरण का मुद्दा लीजिए. मुज़फ़्फ़रनगर के दंगा आरोपियों को कैबिनेट में लिया गया. गोडसे को राष्ट्रभक्त बताने की बात हो या दंगा फैलाने की कोशिश हो. यह दर्शाता है कि लोकतंत्र ख़तरे में है."

इमेज कॉपीरइट AP

आशुतोष के अनुसार मोदी के आने के बाद फ़ासीवाद का ख़तरा बढ़ गया है, "आज केंद्र में ऐसी सरकार है जिनके मुखिया को लोकतंत्र में यक़ीन नहीं है. मोदी जी ही सब-कुछ हैं, कैबिनेट मंत्रियों की ताक़त ही नहीं रह गई है."

पत्रकार से नेता बने आशुतोष कहते हैं कि हिंदुस्तान के मीडिया ने मोदी के सामने घुटने टेक दिए हैं. वह कहते हैं, "23 साल की पत्रिकारिता में मैं आठ साल संपादक रहा हूं. मैंने साथी संपादकों के चेहरे पर वह ख़ौफ़ महसूस किया है कि सरकार विरोधी लेख हटाने के लिए दबाव होता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार