वीएचपी के जवाब में कांग्रेसी बीएचपी

भारतीय हिंदू परिषद, बीएचपी इमेज कॉपीरइट Pundalik Pai

कर्नाटक में एक कांग्रेस नेता ने विश्व हिंदू परिषद का मुकाबला करने के लिए भारतीय हिंदू परिषद (बीएचपी) का गठन किया है, लेकिन वरिष्ठ नेता इससे नाराज़ हैं.

मंगलुरु के नज़दीक तटीय ज़िले दक्षिण कन्नड़ के पुत्तर कस्बे में मंत्रोच्चार के बीच बीएचपी का गठन किया गया.

कांग्रेस के ब्लॉक इकाई अध्यक्ष हेमंत शेट्टी ने वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं की अपील को यह कहकर नज़दरअंदाज़ कर दिया कि 'इसका कांग्रेस पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है.'

'संविधान विरुद्ध'

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्य में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष जनार्दन पुजारी ने बीबीसी को बताया, "कांग्रेस कभी भी हिंदू, मुसलमान या ईसाइयों की पार्टी नहीं रही. किसी भी धर्म के हों हम सब भारतीय हैं."

उन्होंन कहा, "अगर मैं प्रदेशाध्यक्ष होता तो मैं उन्हें पार्टी से निकाल देता. उनकी हरकतें पार्टी संविधान और भारतीय संविधान के विरुद्ध हैं."

लेकिन शेट्टी का कहना है, "हम पार्टी के विरुद्ध नहीं जा रहे हैं. हम समाज का विश्वास जीतना चाहते हैं और यह बताना चाहते हैं कि विश्व हिंदू परिषद जिस तरह का हिंदुत्व परोस रहा है वह सही नहीं है. यह हिंदू समाज का सम्मान नहीं बढ़ाता."

शेट्टी ने स्थानीय मीडिया में उनके नाम से छपे उस बयान का खंडन किया जिसमें कहा गया था कि वह बीएचपी का गठन इसलिए कर रहे हैं क्योंकि कांग्रेस ने मुसलमानों और ईसाइयों को लुभाने के लिए हिंदुओं को किनारे कर दिया है.

हिंदू और कांग्रेस

इमेज कॉपीरइट EPA

वह कहते हैं, "कांग्रेस में सभी समुदायों के लोग हैं. लेकिन ऐसी भी बात नहीं है कि अगर कोई हिंदू कांग्रेस में है तो उसे हिंदुत्व को छोड़ देना चाहिए."

राज्य के पार्टी उपाध्यक्ष, बीएल शंकर, ने कहा, "हिंदू सभी राजनीतिक दलों में हैं. यह कहना ग़लत होगा कि आरएसएस या बीजेपी हिंदुओं की एकमात्र प्रतिनिधि हैं. बहुत सारे हिंदू ऐसे हैं जो आरएसएस या बीजेपी से जुड़ाव महसूस नहीं करते."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार