हरपल मदद को तैयार जलेबी वूमन, समोसा मैन

समोसा इमेज कॉपीरइट BBC World Service

जलेबी, गुलाब जामुन और रसगुल्ला.....ये मिठाइयां मुंह में पानी लाने के लिए काफ़ी हैं. पर क्या आपने कभी ये सोचा है कि ये किसी युवती को छेड़खानी के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने के लिए या किसी बाल मजदूर को शोषण के विरुद्ध लड़ने के लिए प्रेरित भी कर सकते हैं?

या ऐसा भी हो तो हो सकता है कि पेट भरने की ये चीजें किसी कलाकार को चित्र उकेरने या कार्टून बनाने के लिए प्रेरित करें?

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

दिल्ली के चित्रकार राजकमल आईच देश की आम जनता के नाश्ते की चीजों को सुपर हीरो से कम नहीं मानते.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बीबीसी को उन्होंने बताया कि हर राज्य के खान पान की अपनी अपनी खूबियां हैं, पर वे उन कुछ चीजों में हैं जो देश को जोड़ती हैं.

वे कहते हैं, 'रसगुल्ला बंगाल की अद्भुत देन है, पर उसे पूर देश में पसंद किया जाता है. ढोकला गुजरात का है, पर दूसरे राज्यों के लोग भी वो खाते हैं.'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

आईच का मानना है कि ये चीजें सर्वहारा के संघर्ष की प्रतीक हैं, ग़रीबों को बल देने का काम करती हैं.

उनके मुताबिक़, समोसा किसी बाल मज़दूर के लिए ज़बरदस्त चीज हैं क्योंकि वो चाहे तो दिन में दस समोसे खा सकता है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

आईच को जलेबी का चित्र बनाने की प्रेरणा कॉलेज की छात्रा से मिलती है, जो छेड़खानी के ख़िलाफ़ एक दिन उठ खड़ी होती है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

वे "भाजा मुख" यानी भुना हुआ मुंह नाम से कार्टून भी बनाते हैं.

एक दूसरे कार्टून "द बेंगाली वैम्पायर" के ज़रिए वे भद्र लोक बंगाली समुदाय और खुद पर व्यंग्य करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)