लोगों की बेचैनी का इलाज 'इमरजेंसी' होगी?

ओडिशा में इसाई समुदाय की ओर से किया गया विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट Sanjib Mukhrejee

नई दिल्ली में पिछले डेढ़ महीने में ईसाइयों के चार गिरिजाघरों पर हमलों के बाद उनके एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाक़ात की है.

उन्होंने राष्ट्रपति से अपने पूजा स्थलों, स्कूलों और अन्य संस्थानों पर होने वाले हमलों के ख़िलाफ़ सुरक्षा मुहैया कराने की अपील है.

(पढ़ेंः 'सांप्रदायिक होती है पुलिस')

पढ़ें पूरा विश्लेषण

इमेज कॉपीरइट PTI

भाजपा के कुछ सांसद और नेता हिंदुओं की आबादी बढ़ाने के लिए कम से कम चार बच्चे पैदा करने की अपील कर रहे हैं.

क्योंकि उन्हें आशंका है कि मुसलमानों की जन्म दर अधिक होने के कारण आने वाले सालों में भारत में मुसलमानों की तादाद हिन्दुओं से अधिक हो सकती है.

(पढ़ेंः आदिवासी और बंगाली मुसलमान ही क्यों)

सिर्फ़ यही नहीं भाजपा के कुछ सांसद और आरएसएस से जुड़े कुछ संगठन देश के कई इलाक़ों में अपने दावे के अनुसार मुसलमानों और ईसाइयों को वापस हिंदू बनाने में प्रयासरत हैं.

विकास का नारा

इमेज कॉपीरइट
Image caption जस्टिस मार्कण्डेय काटजू.

ऐसे ही हालात हैं जिनके मद्देनज़र सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कण्डेय काटजू ने आशंका जताई है कि भारत में जिस तरह के हालात पैदा किए जा रहे हैं, अगर यही सूरतेहाल क़ायम रही तो देश एक बार फिर साल 1975 जैसी इमरजेंसी की ओर बढ़ रहा है.

(पढ़ेंः हिंदू कारोबारी ने बनवाई मस्जिद)

जस्टिस काटजू का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नई सरकार विकास के नारे पर सत्ता में आई.

भाजपा की सत्ता को सात महीने हो चुके हैं लेकिन बक़ौल उनके विकास का कोई संकेत नज़र नहीं आता.

हिंदुत्व का एजेंडा

इमेज कॉपीरइट Jaiprakash Baghel

काटजू का मानना है कि सरकार ने जिस तरह की आर्थिक नीतियां अपनाई है उनसे आने वाले दिनों में देश की आर्थिक स्थिति और भी जटिल हो सकती है.

(तस्वीरेंः हिंसा के बाद का मंजर)

जस्टिस काटजू के मुताबिक़ इस सूरत में भारत के युवा नई सरकार से बेज़ार होने लगेंगे और सरकार को जनांदोलनों को दबाने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के दौर वाली इमरजेंसी का सहारा लेना पड़ेगा.

प्रधानमंत्री मोदी चुनाव के समय से ही विकास और बेहतर सरकार की बात करते रहे हैं लेकिन वो जब से सत्ता में आए हैं हिन्दुत्व का पूरा एजेंडा भारत की राजनीति की धुरी बना हुआ है.

दक्षिणपंथी राजनीति

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रसिद्ध बुद्धिजीवी कांति बाजपेयी ने लिखा है, "धार्मिक दंगे, हिंदू धर्म के अन्य धर्मों विशेषकर इस्लाम से संबंध के बारे में भड़काऊ भाषण, राम जन्मभूमि के नाम पर जनमत प्रशस्त करना, धर्म परिवर्तन और शिक्षा प्रणाली को बदलकर एक नया सिस्टम लागू करना ही हिंदुत्व के एजेंडे के मुख्य पहलू हैं."

भारत एर्दोगान के तुर्की या व्लादिमीर पुतिन के रूस की तरह नज़र आता है जहां जनता आत्मसम्मान और विकास की तीव्र इच्छा लिए दक्षिणपंथी राजनीति और बहुसंख्यक समुदाय के लोकप्रिय नेताओं की ओर आकर्षित हो रही है.

बड़े परिवर्तन

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY
Image caption लोकसभा चुनावों से पहले कोलकाता शहर की एक दीवार पर बनी तस्वीर.

भारत में मनमोहन सिंह की दस साल की 'सुस्त' और 'निष्क्रिय' सरकार ने एक ऐसा राजनीतिक ख़ालीपन पैदा कर दिया है कि लोग अब मोदी से किसी चमत्कार की ही उम्मीद कर रहे हैं.

हालांकि प्रधानमंत्री मोदी ने सात महीने की अवधि में महज़ कुछ नारों के अलावा किसी बड़े परिवर्तन के संकेत नहीं दिए हैं.

मोदी सरकार के भविष्य का सबसे स्पष्ट अनुमान अगले महीने के बजट में सामने आएगा.

दिल्ली चुनाव

इमेज कॉपीरइट BBC AP

अगले महीने ही मोदी की राजनीतिक लोकप्रियता का अंदाज़ा हो सकेगा जब दिल्ली का विधानसभा चुनाव होगा, जहां भाजपा का मुक़ाबला अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी से है.

दिल्ली के चुनाव मोदी की निजी लोकप्रियता के अनुमान के लिहाज़ से ही नहीं बल्कि भविष्य की राजनीति की दृष्टि से भी ख़ासे महत्वपूर्ण हैं.

अगर दिल्ली में आम आदमी पार्टी जीतती है तो यह मोदी की लिए महज़ चुनावी हार ही नहीं, भविष्य की सबसे बड़ा राजनीतिक चुनौती होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार