रक्षा मंत्री नाम बताएं या माफी मांगें: कांग्रेस

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के इस बयान पर विवाद हो गया है जिसमें उन्होंने कहा था कि कई पूर्व प्रधानमंत्रियों ने देश के अहम सुरक्षा हितों से समझौता किया है.

कांग्रेस ने पर्रिकर पर जवाबी हमला करते हुए कहा है कि वो उन प्रधानमंत्रियों के नाम उजागर करें.

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा, "रक्षा मंत्री के पास अगर सबूत हैं कि किसी पूर्व प्रधानमंत्री ने देश की सुरक्षा के साथ समझौता किया है तो उन्हें इसे सार्वजनिक करना चाहिए. अगर वो ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें ऐसे गंभीर आरोप लगाने के लिए सार्वजनिक रूप से माफ़ी मांगनी चाहिए."

कांग्रेस के कई अन्य नेताओं ने भी पर्रिकर को ऐसे गंभीर आरोप लगाने की बजाय नाम उजागर करने की चुनौती दी.

पर्रिकर ने अभी तक किसी पूर्व प्रधानमंत्री का नाम नहीं लिया है और ये आरोप उन्होंने एक हिंदी पत्रिका 'विवेक' को दिए इंटरव्यू में लगाए हैं.

कांग्रेस पर निशाना

इमेज कॉपीरइट PIB

पर्रिकर ने कहा था, "देश के महत्वपूर्ण सुरक्षा हितों का निर्माण करना पड़ता है, जिसमें 20 से 30 साल का समय लगता है. दुखद है कि कुछ पूर्व प्रधानमंत्रियों ने इन हितों के साथ समझौता किया."

पर्रिकर ने इन आरोपों के बारे में अपनी जानकारी का सूत्र बताने से इंकार कर दिया. पर्रिकर ने हाल में पाकिस्तान की एक नाव के ख़िलाफ़ कोस्ट गार्ड के अभियान से जुड़े एक सवाल के जवाब में ये बात कही थी.

यह पूछे जाने पर कि वो किस पूर्व प्रधानमंत्री का ज़िक्र कर रहे हैं तो उनका कहना था, "मैं कोई नाम उजागर नहीं करुंगा. वे नाम कई लोग जानते हैं."

इमेज कॉपीरइट pti

पाकिस्तानी नाव और संदिग्ध चरमपंथियों से जुड़े कोस्ट गार्ड के विवादित अभियान के बारे में सबूत मांगे जाने की कांग्रेस की मांग की भी पर्रिकर ने आलोचना की.

उनका कहना था, "इस बात की मांग हो रही है कि इस बात के सबूत दिए जाएं कि वो पाकिस्तान की नाव थी. आगे से हम ऐसे अभियान में कैमरामैन लेकर जाएंगे और कांग्रेस का एक प्रवक्ता भी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार