कौन होगा बीसीसीआई का अगला अध्यक्ष?

एन श्रीनिवासन इमेज कॉपीरइट AFP

आईपीएल सिक्स में मैच फ़िक्सिंग और सट्टेबाज़ी से जुड़े मामले सामने आने के बाद आम क्रिकेट प्रेमी का विश्वास हिल गया था.

ठीक उसी तरह बीते गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले ने बीसीसीआई के प्रशासक एन श्रीनिवासन को भी हिला कर रख दिया.

आरोप हैं कि बीते दो-तीन सालों में एन श्रीनिवासन ने बीसीसीआई को वन मैन शो बना डाला था और वह जैसे चाहे वैसे प्रशासन चला रहे थे.

आरोप तो यह भी हैं कि वह टीम के कप्तान से लेकर चयनकर्ता तक सब अपनी मर्ज़ी से चुन रहे थे.

टकराव

इमेज कॉपीरइट AFP

लगभग 17 महीनों बाद सुप्रीम कोर्ट ने मुद्गल समिति की रिपोर्ट पर अपने फ़ैसले में उन्हें बीसीसीआई के चुनाव अगले छह सप्ताह में कराने और ख़ुद उससे दूर रहने को कहा.

उनकी टीम चेन्नई सुपर किंग्स से जुड़े उनके दामाद गुरूनाथ मेयप्पन उनके पतन का कारण बने. सुप्रीम कोर्ट ने मयप्पन के अलावा राजस्थान रॉयल्स के सह-मालिक राज कुंद्रा के ख़िलाफ़ सट्टेबाज़ी के आरोप सही पाए.

क्या श्रीनिवासन युग समाप्त हो चुका हैं. सितारा खिलाड़ियों से भरी चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स का क्या होगा. मयप्पन और कुंद्रा को क्या सज़ा मिलेगी. बीसीसीआई का अगला अध्यक्ष कौन होगा.

इन यक्ष प्रश्नों के जवाब में जाने-माने क्रिकेट समीक्षक विजय लोकपल्ली कहते हैं कि फ़िलहाल चुनाव ना लड़ने से ऐसा नहीं हैं कि श्रीनिवासन का भविष्य यहीं समाप्त हो गया हैं. उनके ख़िलाफ़ हितों के टकराव का मामला बनता हैं. कुछ समय के लिए वह बोर्ड से दूर रहेंगे लेकिन आईसीसी के चेयरमैन बने रहेंगे.

श्रीनिवासन पर आईपीएल से जुड़े स्पॉट फ़िक्सिंग या सट्टेबाज़ी संबधित कोई आरोप नहीं हैं. उनके आईसीसी चेयरमैन बने रहने पर दूसरे देश सवाल खड़े कर सकते हैं.

इसके बावजूद आईसीसी उनके ख़िलाफ़ सोच समझकर क़दम उठाएगी क्योंकि उसे भी भारत और श्रीनिवासन के महत्व का पता हैं.

अनुभव

इमेज कॉपीरइट

बीसीसीआई के अध्यक्ष पद के बिना प्रशासनिक निर्णय प्रभावित होंगे इसलिए कोर्ट ने छह सप्ताह में चुनाव कराने को कहा है.

बीसीसीआई श्रीनिवासन को ही अध्यक्ष के रूप में इतने विवादों के बाद भी लाना चाहती थी, क्या उनके पास कोई दूसरा योग्य व्यक्ति नहीं हैं. निश्चित रूप से इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बीसीसीआई और भारत की क्रिकेट की छवि को गहरी ठेस लगी हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

मेयप्पन और राज कुंद्रा तथा चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स का भविष्य अब पूर्व मुख्य न्यायाधीश आर एम लोढा, जस्टिस अशोक भान और जस्टिस आर वी रविंद्रन की तीन सदस्यीय समिति करेगी जिसे छह महीने का समय दिया गया है.

अब लाख टके का सवाल? बीसीसीआई का अगला अध्यक्ष कौन? क्या शशांक मनोहर, शरद पवार, जगमोहन डालमिया, ए सी मुथैय्या, आई एस बिन्द्रा या फिर कोई युवा चेहरा?

इसे लेकर विजय लोकपल्ली कहते हैं कि इन नामों में अधिकतर सभी को बेहद अनुभव हासिल हैं.

दावेदार को बीसीसीआई की दो सालाना बैठक में भाग लेना ज़रूरी हैं. सरकरी समर्थन की भी ज़रूरत पड़ेगी. लेकिन अभी तो चुनाव की तिथि तय होगी और वर्किंग कमेटी की मीटिंग होगी. यह आसान चुनाव नहीं होगा. पुराने नाम ज़रूर कोशिश करेंगे. शायद एक नया रास्ता दिखाने की भी कोशिश हो. वैसे अब ईस्ट ज़ोन की बारी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार