15 लाख का वादा, 15 रुपए नहीं मिले: अन्ना

भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ मुहिम चलाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने केंद्र की मोदी सरकार पर काले धन के मुद्दे पर नाकाम रहने का आरोप लगाया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अन्ना हज़ारे ने अपने गांव राळेगण सिद्धि में कहा, "लोकसभा चुनावों में लोगों से वादा किया गया था कि 100 दिन के भीतर काला धन वापस लाया जाएगा और हर आदमी के खाते में 15 लाख रुपये आएंगे, लेकिन 15 रुपये भी नहीं मिले."

एनडीटीवी के दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, "लोग अब समझ गए हैं कि उन्हें धोखा दिया गया है. वे उन्हें सबक सिखाएंगे जैसे कांग्रेस को सिखाया था."

जब उनसे दिल्ली विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल और किरण बेदी को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वो राजनीति पर बात नहीं करते हैं.

कितना काला धन?

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मोदी सरकार ने काले धन के मुद्दे पर एसआईटी बनाई है

आम चुनावों के दौरान भारतीय जनता पार्टी ने जिन मुद्दों को उठाया था, उनमें काले धन को वापस लाना भी एक था.

केंद्र में सत्ता संभालने के बाद मोदी सरकार ने इस बारे में पड़ताल के लिए विशेष जांच टीम बनाने का एलान किया है.

विपक्षी कांग्रेस काले धन के मुद्दे पर सरकार को घेरती रही है जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह चुके हैं कि अभी ये भी नहीं पता है कि विदेशों में कितना काला धन जमा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)