'गोत्र वार' पर भाजपा का सफ़ाई अभियान

भारतीय जनता पार्टी का विज्ञापन इमेज कॉपीरइट BJP ADVERTISMENT

आम आदमी पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी की ओर से जारी किए गए एक विज्ञापन पर गहरी नाराज़गी जताई है.

इस विज्ञापन में केजरीवाल के गोत्र को कथित तौर पर ‘उपद्रवी’ बताया गया है.

पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा है कि वे चुनाव आयोग से इसकी शिकायत करेंगे और इस पर विज्ञापन पर तुरंत रोक लगाने की मांग करेंगे.

केजरीवाल ने अपने ट्विटर एकाउंट पर सवाल उठाया है कि आखिर कोई पूरे अग्रवाल गोत्र को 'उपद्रवी' कैसे कह सकता है.

भाजपा की सफ़ाई

इमेज कॉपीरइट Other

भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली ईकाई ने इस मुद्दे पर सफ़ाई दी है. दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने पार्टी का बचाव करते हुए कहा कि गोत्र का इस्तेमाल तो सिर्फ़ रूपक के तौर पर किया गया है, यह किसी जाति या गोत्र के ख़िलाफ़ नहीं है.

केंद्रीय मंत्री ने पीयूष गोयल ने कहा कि इसे जाति का मुद्दा बनाने का काम तो आम आदमी पार्टी कर रही है. इसी तरह उन्होंने यह भी कहा कि उपद्रवी शब्द की भी जान बूझ कर ग़लत व्याख्या की जा रही है.

'डैमेज कंट्रोल' में जुटी भाजपा?

इमेज कॉपीरइट AP

समझा जाता है कि दिल्ली के बनिया समुदाय के ज़्यादातर लोग पारंपरिक रूप से भारतीय जनता पार्टी के मतदाता रहे हैं. ऐसे में चुनाव के ठीक पहले बनिया समुदाय के लिए इस तरह की बात कहना पार्टी के लिए मुसीबत का सबब बन सकता है. पार्टी ने इसलिए तुरत फुरत इस पर अपनी सफ़ाई दे दी.

पार्टी की ओर से सफ़ाई देने के लिए सामने आए पीयूष गोयल खुद बनिया समुदाय के हैं. इस मुद्दे पर भाजपा ने एक तरह से 'डैमेज कंट्रोल' की ही कोशिश की है.

चुनाव आयोग से शिकायत की धमकी दी केजरीवाल ने

इमेज कॉपीरइट PTI

उन्होंने लिखा है, "भाजपा की लड़ाई मुझसे हो सकती है. वो पूरे अग्रवाल समाज को उपद्रवी कैसे कह सकती है?"

केजरीवाल ने भाजपा पर जातिगत हमले करने का आरोप लगाते हुए उससे पूरे अग्रवाल समाज से माफ़ी मांगने की मांग की है.

आम आदमी पार्टी के नेता ने कहा कि अन्ना हज़ारे का कहना है कि व्यक्ति को अपमान पीने की ताक़त होनी चाहिए.

वे कहते हैं, “भाजपा ने मेरे बच्चों पर भी हमला किया, पर मैं चुप रहा.”

ट्विटर पर भाजपा का विरोध

इमेज कॉपीरइट BBC AP

केजरीवाल ने तंज करते हुए पूर्व सहयोगी और अब भाजपा के मुख्यमंत्री पद की दावेदार किरण बेदी का शुक्रिया अदा किया है कम से कम आज उनके बच्चों पर निशाना नहीं साधा गया है.

कई लोगों ने भारतीय जनता पार्टी के इस विज्ञापन की ट्विटर पर तीखी आलोचना भी की है.

लोगों ने गोत्र का नाम लेकर केजरीवाल पर हमला करने का ज़ोरदार विरोध किया है.

गोत्र पर घमासान

रिफ़त जावेद ने पूछा है कि कफ़, मफ़लर और अब गोत्र, दिल्ली के मतदाताओं के लिए क्या ये तीन मुद्दे ही सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण है.

सुधीर नाम के ट्विटर यूज़र ने लिखा, "पहले हताश हुई फिर निराश और अब बदहवास हो चुकी है भाजपा. ये इंगित करता है कि भाजपा चुनाव में हार मान चुकी है."

विनोद मेहता लिखते हैं, "मैं अग्रवाल गोत्र को अपने भाइयों और बहनों के साथ खड़ा हूं. प्रधानमंत्री और उनके लोगों द्वारा इस समुदाय के ख़िलाफ़ की जा रही गाली गलौच हमें मंजूर नहीं है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार