'गोडसे' के नाम पर पुल!, एफ़आईआर दर्ज

नाथूराम गोडसे और नाना आप्टे इमेज कॉपीरइट Nana Godse

राजस्थान के अलवर में एक निर्माणाधीन फ्लाईओवर पर 'राष्ट्रवादी नाथूराम गोडसे पुल' लिखे जाने के मामले में एफ़आईआर दर्ज कराई गई है.

ज़िला कलेक्टर महावीर स्वामी ने बीबीसी को बताया,''नामकरण के लिए एक प्रक्रिया होती है. ऐसा कोई नामकरण न तो हुआ है और न किसी ने किया है."

एफ़आईआर दर्ज

महावीर स्वामी ने कहा,''यह शिलालेख बिल्कुल नहीं है. पुल पर कपड़े के बैनर जैसी इबारत लिखकर किसी ने लगा दी थी, जिसे हटा दिया गया है. इस मामले में एफ़आईआर दर्ज कराई गई है.''

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption राजस्थान में वसुंधरा राजे के नेतृत्व में भाजपा की सरकार है.

उन्होंने कहा कि पुलिस इस असामाजिक गतिविधि की जांच के बाद कार्रवाई करेगी.

मामला सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर पहुंचने के बाद इसका विरोध होना शुरू हुआ. इसके बाद शिलालेख पर लिखी इबारत को मिटा दिया गया.

कांग्रेस के पूर्व सांसद भँवर जितेंद्र सिंह के नेतृत्व में युवक कांग्रेस ने इसका जमकर विरोध किया.

अलवर कांग्रेस के व्हाट्स ग्रुप पर इस पर बहुत चर्चा हुई. इसमें कहा गया कि एक तरफ तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकारी योजनाओं में महात्मा गांधी का नाम 'प्रमोट' कर रहे हैं, वहीँ दूसरी ओर उनकी पार्टी के लोग उनके हत्यारे को 'हीरो' बना रहे हैं. यह राष्ट्रपिता का अपमान है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार