मांझी: नीतीश को गुमराह कर रहे हैं कुछ लोग

मांझी ने पशोपेश में डाल रखा है अपनी ही पार्टी को इमेज कॉपीरइट PTI

बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने इस्तीफ़ा देने से मना करते हुए कहा कि वो विधानसभा में अपना बहुमत साबित करेंगे.

इससे पहले जदयू अध्यक्ष शरद यादव ने पत्र लिखकर मांझी को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देने के लिए कहा था.

जीतन राम मांझी ने दिल्ली में पत्रकारों से कहा कि वो 20 फ़रवरी को विधानसभा में अपना बहुमत साबित करेंगे.

मांझी ने पत्रकारों से कहा, "बिहार विधानसभा में जो भी साथ देगा उसका स्वागत है."

मांझी ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए से कहा, "लोग समझने लगे हैं कि नीतीश कुमार ने सामाजिक परिक्षेत्र में जो काम नहीं किया था, जीतन राम मांझी उनसे बढ़कर काम करने लगे हैं. इसलिए दो-चार-पाँच लोग बार-बार नीतीश कुमार को बरगला रहे हैं."

'विकास पर बात'

इमेज कॉपीरइट Bihar Govt

जीतन राम मांझी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे. उन्होंने पत्रकारों से कहा कि प्रधानमंत्री से उनकी केवल विकास के मुद्दे पर बात हुई.

पार्टी अध्यक्ष शरद यादव ने मांझी को एक चिट्ठी लिखकर कहा था कि विधानमंडल की बैठक में नीतीश कुमार को नया नेता चुन लिया गया है.

मांझी ने इस पर कहा, "बिहार विधानमंडल दल की बैठक ग़ैर-कानूनी है, इसलिए किसी को नेता चुनने या उस नेता को मंजूरी देने की बात भी ग़लत है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)