झारखंड: जेवीएम के चार विधायक निलंबित

बाबूलाल मरांडी

झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने पार्टी के चार विधायकों को पार्टी की सदस्यता से निलंबित कर दिया है.

मरांडी का कहना है कि ये विधायक पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल थे.

उन्होंने सोमवार की शाम विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव को पत्र भेजकर चारों विधायकों के निलंबन की सूचना दी.

विधानसभा के प्रभारी सचिव सुशील कुमार सिंह ने इसकी पुष्टि की है.

निलंबित किए गए विधायकों के नाम नवीन जायसवाल, अमर बाउरी, गणेश गंझू और आलोक चौरसिया हैं. नवीन जायसवाल हटिया से, अमर बाउरी चंदनक्यारी से, गणेश गंझू सिमरिया और आलोक चौरसिया डाल्टनगंज से विधानसभा का चुनाव जीते थे.

इस बार के चुनाव में झारखंड विकास मोर्चा के कुल आठ विधायक चुनाव जीते हैं.

सियासी हलचल

सोमवार को ही झारखंड मुक्ति मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष शिबू सोरेन और नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन के नेतृत्व में विपक्ष के विधायकों-नेताओं ने राज्यपाल डॉ सैयद अहमद से मुलाक़ात की और मुख्यमंत्री रघुवर दास मंत्रिमंडल के अब तक पूर्ण गठन नहीं होने पर आपत्ति जताई.

हेमंत सोरेन का कहना है कि मुख्यमंत्री के शपथ लेने के 40 दिन बाद भी मंत्रिमंडल का पूर्ण गठन नहीं कर भाजपा संवैधानिक व्यवस्था का उल्लंघन कर रही है.

उन्होंने यह आरोप भी लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी दूसरे दलों के विधायकों को तोड़ने की कोशिशों में जुटी है.

भाजपा के संपर्क में

माना जा रहा है कि झारखंड विकास मोर्चा के चारों विधायक भाजपा के संपर्क में हैं. संकेत मिल रहें कि ये विधायक भाजपा में शामिल हो सकते हैं.

हालांकि भाजपा की तरफ से इस मामले में कोई अधिकृत बयान नहीं आया है. कई नेताओं ने इस बारे में कुछ भी कहने से मना कर दिया.

वहीं झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने मीडिया से बातचीत में भाजपा पर विधायकों को तोड़ने का आरोप लगाया है.

81 सदस्यों वाली झारखंड विधानसभा में सरकार गठन के लिए 41 सीटों का आंकड़ा जरूरी है. भाजपा ने 42 विधायकों के समर्थन के साथ सरकार बनाई है.

इनमें भाजपा के 37 और आजसू के पांच विधायक शामिल हैं. हालांकि अभी तक मंत्रिमंडल का पूर्ण गठन नहीं हो सका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार