सोशल मीडिया पर क्या कह रहे हैं लोग?

दिल्ली विधानसभा चुनावों के रुझान और परिणाम आ रहे हैं और इस पर तीखी टिप्पणियां फेसबुक और ट्विटर पर देखने को मिल रही हैं.

देखिए किस तरह की प्रतिक्रिया है फेसबुक पर और आप अपनी प्रतिक्रिया भेजिए बीबीसी हिंदी के फेसबुक पन्ने पर.

टिप्पणियां फेसबुक की

अजित कुमार- जय श्री राम हो गया काम.

माधव श्रीमोहन- मफलर की ज़रुरत अब किरण बेदी को है. हार्वर्ड और ऑक्सफोर्ड जाने के लिए. प्रतिपक्ष में बैठने लायक भी नहीं बची.

आनंद कुमार- महाराष्ट्र में ऐसी सिचुएशन को कहते हैं...पानीपत हो जाना.

मोहम्मद अनस-लिखा जाए अख़बारों में,मोदी हारा गलियारों में.

संजय झा मस्तान- ‘आप’ आये ‘बुहार’ आये.

अभिषेक गुरेजा- आप की जीत ये भी दिखाती है कि दिल्ली असल में एक बहुत विशाल झुग्गी भी है.

कुमुद सिंह- ले लहेरियासराय...किरन बेदी 300 वोटों से पीछे हो गई. कहां गए हो पात्रा जी..कुछ बोलिए...महाप्रवक्ता साहेब...अब तो माफ कर दो भाजपा को...कुपात्र सब ले डूबा

अभिषेक रंजन- पहले राउंड में भाजपा हार गई......स्वीकार करिए...लेकिन चिंता मत करिए, तीन बजे के बाद वाला मतपेटी खुलने दीजिए....सब चित हो जाएंगे.

अनिल कुमार- हवा निकलने की शुरुआत हो गई है.

इमेज कॉपीरइट bjpdelhi.org

कुमार सुंदरम- ज्यादा खुश न हों...दोपहर के बाद कांग्रेस को भी सीटें मिलेंगी.

प्रियंकर पालीवाल- भारतीय मतदाता के विवेक पर मुग्ध हुआ जाता हूं.

मनीष जैसल- इन परिणामों को गौर से देखें तो पता चलता है कि जहां जहां मोदी जी ने रैली की वहां वहां बीजेपी हार रही है.

विजय पांडे- झाड़ू का जादू चल गया दस लाख के सूट को मफलर निगल गया.

चौधरी प्रशांत चहल- भई तमंचा फट के फ्लावर हो गया. अब ज़िम्मेदारी कौन ले रहा है.

ये प्रारंभिक टिप्पणियां हैं. आप अपनी टिप्पणी बीबीसी हिंदी के फेसबुक पन्ने पर डाल सकते हैं.

टिप्पणी अभद्र भाषा में न हो तभी हम उसे अपने पन्ने पर शामिल कर पाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)