पंजाब: भ्रष्टाचार में पूर्व मंत्री को सज़ा

सुखबीर सिंह बादल इमेज कॉपीरइट AFP

मोहाली की सेशन कोर्ट ने 13 साल पुराने आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में पूर्व अकाली मंत्री सुच्चा सिंह लंघा को तीन साल की सज़ा सुनाई है.

कई मामलों में अपने सहयोगी भाजपा और विपक्षी दलों की आलोचना का शिकार हो रही सत्ताधारी शिरोमणि अकाली दल को इस फैसले से सीधा तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा पर सरकार पर कुछ दवाव बढ़ जाएगा.

सुच्चा सिंह लंघा 1997-2002 की अकाली-भाजपा सरकार में लोक निर्माण मंत्री थे, लेकिन वो 2012 में चुनाव हार गए थे.

उनके ख़िलाफ़ यह मामला कांग्रेस की अमरिंदर सिंह सरकार के दौरान सतर्कता विभाग ने 2002 में दर्ज किया था.

आय से अधिक सम्पत्ति

इमेज कॉपीरइट SALMAN RAVI

तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल समेत अन्य अकाली मंत्रियों पर भ्रष्टाचार और आय से अधिक सम्पत्ति बनाने के मामले दर्ज हुए थे.

अकाली-भाजपा सरकार आने के बाद बादल परिवार को सारे मामलों में सबूतों के आभाव के चलते बरी किया जा चुका है.

लेकिन मौजूदा कृषि मंत्री तोता सिंह और विधानसभा के स्पीकर निर्मल सिंह काहलों के ख़िलाफ़ अदालती कार्यवाही चल रही है.

मौजूदा जेल मंत्री सोहन सिंह ठंडल को सेशन कोर्ट ने दोषी पाया था, पर हाई कोर्ट ने बाद में उन्हें बरी कर दिया था.

जुर्माना

इस मामले में सुच्चा सिंह लंघा को 1.10 करोड़ का जुर्माना भी किया गया है.

उनके साथी अमरीक सिंह को तीन साल की सज़ा और एक लाख का जुर्माना किया गया है जबकि बाकी अभियुक्तों को बरी कर दिया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार