शिव मंदिर जहां होती है मोदी मूर्ति की आरती

नमो नमो मंदिर में स्थापित नरेंद्र मोदी की प्रतिमा इमेज कॉपीरइट Prabhat Kumar Verma

गुजरात के राजकोट में अपना मंदिर बनाए जाने पर हैरानी जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने प्रशंसकों से ऐसा न करने की अपील की है.

लेकिन उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद डिवीज़न में आने वाले कौशांबी ज़िले के एक गांव में मोदी की मूर्ति की रोज पूजा-अर्चना की जाती है.

उनके एक प्रशंसक ने पिछले साल 21 जनवरी को एक शिव मंदिर में मोदी की प्रतिमा स्थापित की और मंदिर का नाम दिया, 'नमो नमो मंदिर'.

इमेज कॉपीरइट Prabhat Kumar Verma

भगवानपुर गांव निवासी बृजेंद्र मिश्र के अनुसार, यह उनका पुश्तैनी शिव मंदिर है.

ब्रजेंद्र मिश्र आरएसएस के कारसेवक प्रमुख और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के प्रांत सहमंत्री रह चुके हैं.

मिश्र बहते हैं कि उन्होंने इस मूर्ति की स्थापना मोदी के विकास की सोच को लोगों तक पहुंचाने के लिए की है.

आरती और पूजा

इमेज कॉपीरइट PRAKASH RAVRANI
Image caption गुजरात के राजकोट में भाजपा कार्यकर्ताओं ने नरेंद्र मोदी का मंदिर बनवाया है.

ब्रजेंद्र मिश्र कहते हैं कि वो रोज़ सुबह और शाम मूर्ति की आरती और पूजा करते हैं. इस दौरान गांव के अन्य लोग भी आते हैं.

वो कहते हैं, ''मैंने इस मूर्ति की स्थापना भगवान शंकर जी के साथ की है ताकि भगवान शंकर की कृपा उन पर बनी रहे.''

उन्होंने कहा कि वो उनके गांव के लोग चाहते हैं कि एक बार नरेंद्र मोदी मंदिर में आएं.

हालांकि प्रधानमंत्री ने गुरुवार सुबह ट्वीट करके इस तरह की गतिविधियों को भारत की महान पंरपराओं के ख़िलाफ़ बताया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार