केजरीवाल और जादू की झप्पी

परिवार और दोस्तों के साथ अरविंद केजरीवाल इमेज कॉपीरइट Other

दिल्ली में अरविंद केजरीवाल ने अपनी असाधारण चुनावी सफलता के लिए पत्नी को श्रेय देते हुए एक तस्वीर ट्वीट की- भारत के लिए यह तस्वीर कोई मामूली तस्वीर नहीं है.

इसमें आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल अपनी पत्नी को गले लगाते दिख रहे हैं.

बीबीसी हिंदी की संवाददाता रूपा झा ने इस बारे में थोड़ी ईर्ष्या के साथ यह लेख लिखा है.

पढ़ें विस्तार से

इमेज कॉपीरइट Other

कल्पना कीजिए कि आप शब्दों की कोई पहेली सुलझा रहे हों.

आपके सामने पहला जुमला आता है 'भारतीय राजनीति', तो आप जवाब में क्या कहेंगे. 'आक्रामकता'? शायद!

क्या किसी नाज़ुक पल की गुंजाइश इस राजनीति में है? अगर सब कुछ पहले की तरह रहा होता तो बिलकुल नहीं लेकिन इस हफ़्ते यह हुआ.

इस हफ़्ते ज़बर्दस्त जीत की तस्वीर जब साफ़ हुई तो आम आदमी पार्टी के अगुआ अरविंद केजरीवाल ने अपनी पत्नी को भींचते हुए अपनी तस्वीर जारी की.

ट्वीट

इमेज कॉपीरइट Getty

दोनों बांहों में अपनी पत्नी सुनीता को भरे हुए इस तस्वीर को उन्होंने ट्वीट किया और कहा- "शुक्रिया सुनीता. हमेशा साथ देने के लिए”

नारंगी छींट की सलवार कमीज़ में उनकी नौकरशाह पत्नी कुछ संकोच के साथ झेंपती हुई दिखीं.

एक ऐसी राजनीतिक संस्कृति में जहां मर्दों और मर्दानगी का दबदबा रहा है, ये वो लम्हे थे जिन्होंने मेरी आंखें नम कर दीं.

यह वाजिब भी है कि अरविंद 'वेलेंटाइन डे' के दिन शपथ ले रहे हैं.

ओबामा मूमेंट

इमेज कॉपीरइट AFP

यह तस्वीर भारतीयों के लिए कुछ हद तक 'ओबामा मूमेंट' जैसी थी जब अमरीकी राष्ट्रपति ने दोबारा चुने जाने पर पत्नी को गले लगाते हुए ऐसी ही एक तस्वीर ट्वीट की थी.

राष्ट्रपति ओबामा ने हाल ही में अपनी पत्नी के बारे में कहा था, "वे मुझे रोज़ प्रेरित करती हैं. वे मुझे एक बेहतर राष्ट्रपति की बनिस्बत एक बेहतर व्यक्ति बनाती हैं."

ईमानदारी से कहूं तो विदेशी राजनेताओं का अपने जीवनसाथी के सहयोग को सार्वजनिक तौर पर स्वीकार करते देखना और बिना किसी घबराहट के अपना लगाव अपनी मोहब्बत ज़ाहिर करता देख मुझे एक तरह से ईर्ष्या होती है.

राजीव और सोनिया

इमेज कॉपीरइट Getty

हाल के भारतीय राजनीतिक इतिहास में राजीव और सोनिया गांधी का प्यार एक बेहद रोमांटिक और दुखद प्रेमकथा के तौर पर दर्ज है.

उनके निजी क्षणों की तस्वीरें मोहब्बत से लबरेज़ लगतीं पर बतौर प्रधानमंत्री राजीव और सोनिया जब भी दुनिया के सामने आए एक अजीब सतर्कता दिखती थी उनकी तस्वीरों में.

कई बार हैरत होती है कि हमारे राजनेता इस तरह के हाव-भाव को लेकर क्यों और अधिक सहज नहीं हो सकते.

इस देश में राजनीति से जुड़े लोगों का सार्वजनिक तौर पर प्यार ज़ाहिर करना एक वर्जित सी ही बात मानी जाती रही है.

चलन

इमेज कॉपीरइट PMO India

उन्होंने हमेशा ख़ुद को ऐसे व्यक्ति के बतौर पेश करने पर ज़ोर दिया है जिनका प्रेम केवल मातृभूमि और लोगों के लिए है.

उनकी जीवन संगिनियां सार्वजिनक तौर पर कम ही दिखाई देती रही हैं.

जीवन में पत्नी की भूमिका को स्वीकार करने की असफलता केवल राजनेताओं पर ही लागू नहीं होती.

यह एक ऐसा चलन है जो राजनीति के दायरे से बाहर कई और जगह दिखने को मिल जाता है.

मोदी की छवि

इमेज कॉपीरइट MANJUL

केजरीवाल का आलिंगन निश्चित रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उलट दिखाई पड़ता है.

पिछले लोकसभा चुनाव के पहले तक मोदी ने पत्नी के अस्तित्व को ही स्वीकार नहीं किया था.

इससे मोदी की सार्वजनिक छवि पर शायद ही खरोंच आई हो.

भारतीय राजनीति में जनसेवा के लिए गृहस्थ जीवन के त्याग को बहुत आदर की नज़र से भी देखा जाता है.

मोड़

मगर यह भी सच है कि नरेंद्र मोदी की शादी बहुत कम उम्र में हो गई थी. इससे पहले की यह जोड़ा जान पाता कि वह किस मोड़ पर अलग हों, उसने अलग रास्ता चुन लिया.

अरविंद केजरीवाल ने अपने जीवन और राजनीतक सफ़र में पत्नी की भूमिका को खुलकर स्वीकार करते हुए और आलिंगन के ज़रिए एक राजनीतिक और सामाजिक संदेश देने की कोशिश की है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

और यह संदेश है बराबरी का -और यह भी कि प्यार करना और उसका इज़हार करना अच्छा है. नेताओं के लिए भी!!

दिल्ली चुनाव में 60 लाख औरतों ने हिस्सा लिया है और इसमें कोई शक नहीं कि इस बात ने उन कई औरतों के दिल पर असर किया है!!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार