आखिर ये उन्नाव में हो क्या रहा है!

उत्तर प्रदेश, उन्नाव, पुरातत्व विभाग, खुदाई, सोना इमेज कॉपीरइट AP

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और औद्योगिक राजधानी कानपुर के बीच है उन्नाव. जो पिछले कुछ सालों से ग़लत वजहों से सुर्खियों में रहा है.

चाहे एक साधु के सपने के आधार पर सरकार ने ज़िले के गांव में खुदाई कराई हो या गंगा के तट पर मिली लाशों का मामला हो या फिर नरकंकाल मिलने से मचा हंगामा.

इसके अलावा यहां से सांसद साक्षी महाराज के बयानों ने कम तूफ़ान खड़ा नहीं किया. आखिर उन्नाव ग़लत वजहों से मशहूर क्यों हो रहा है.

पढ़ें विस्तार से

तारीख- 18 अक्टूबर, 2013. स्थान- उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले का गाँव डोंडिया खेड़ा.

भारतीय पुरातत्व विभाग ने उस दिन उन्नाव के कभी राजा रहे राम बक्श सिंह के अब टीले में तब्दील हो चुके महल से 1000 टन सोना ढूंढने के लिए खुदाई शुरू की थी.

कानपुर के एक साधु शोभन सरकार ने दावा किया था कि राम बक्श सिंह उनके सपने में आए थे और कहा था कि उनके क़िले के नीचे 1000 टन सोना दबा है.

बाबा ने अपनी बात केंद्र सरकार तक पहुंचाई जिसने पुरातत्व विभाग को किले में सोना ढूंढने का काम सौंपा.

उस दिन आम आदमी तो दूर, मीडिया कर्मियों को भी खुदाई स्थल के पास जाना वर्जित था.

खुदाई शुरू होते ही डोंडिया खेड़ा के लोगों की उम्मीदें जाग उठीं. उन्हें लगा सोना निकलने के साथ ही डोंडिया खेड़ा का विकास होगा. स्कूल, कॉलेज, होटल, अस्पताल खुलेंगे.

रामबक्श सिंह के किले के एक तरफ़ रहने वाले गंगा प्रसाद को खेत से ज़्यादा आमदनी नहीं होती. उन्हें लगा था कि उनका खेत ऊंचे दाम पर ख़रीद लिया जाएगा.

पर धीरे-धीरे डोंडिया खेड़ा के लोगों की उम्मीदें टूटने लगीं. एक महीने की खुदाई के बावजूद पुरातत्व विभाग को मिला तो कुछ लोहे की कीलें, बर्तन और चूल्हे.

गंगा प्रसाद की मायूसी

गंगा प्रसाद आज मायूस हैं. क़रीब 15 महीने हो चुके हैं. मुख्य मार्ग से डोंडिया खेड़ा तक जाने वाले पगडंडी के दोनों तरफ़ सरसों के पीले फूल खिले हैं.

पर डोंडिया खेड़ा में आपको शायद ही कोई व्यक्ति दिखे. लगेगा पूरा गाँव जैसे सो रहा है.

खुदाई स्थल पर खड़े होकर आज आप अपनी सेल्फ़ी खींच सकते है.

गंगा प्रसाद कहते हैं, "पुरातत्व विभाग ने टीले पर जिस जगह खुदाई की थी उस पर एक काली प्लास्टिक की पन्नी डाल दी है. उसके ऊपर मिट्टी पड़ गई है और अब घास निकल आई है. वही चिह्न है जहां खुदाई हुई थी."

शव और नरकंकाल

इमेज कॉपीरइट Rohit Ghosh

मीडिया की दिलचस्पी डोंडिया खेड़ा और उन्नाव में ख़त्म हो चुकी थी पर इस साल जनवरी में उन्नाव अचानक फिर सुर्ख़ियों में आया.

कारण था ज़हरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत. मामला शांत होता कि अचानक उन्नाव के परियर घाट पर गंगा नदी में 100 से अधिक शव उफ़नाते मिले.

पुलिस ने लाशें दफ़नाई ही थीं कि ज़िले के ठीक बीचोंबीच स्थित पुलिस कैंप में कई नरकंकाल पाए गए.

विकास में पीछे

इमेज कॉपीरइट Rohit Ghosh BBC

विकास के मामले में उन्नाव शायद पड़ोसी शहरों लखनऊ और कानपुर से पिछड़ गया है.

इतिहास के जानकार मनोज कपूर कहते हैं, "परियर घाट वही स्थल है जहां राम ने सीता का त्याग किया था. डोंडिया खेड़ा के पास बक्सर वह जगह है जहां महाभारत के चरित्र बकासुर का आश्रम था. उन्नाव बौद्ध धर्म का भी केंद्र बना. ह्वेन सांग डोंडिया खेड़ा गया था."

मनोज कपूर उन्नाव के पिछड़ेपन के पीछे एक भौगोलिक कारण देखते हैं.

"गंगा के तले का ढाल कानपुर की तरफ ऊंचा है उन्नाव की तुलना में. इसी वजह से उन्नाव हमेशा बाढ़ग्रस्त रहा है और वहां कभी भारी आबादी नहीं बसी. चूंकि कानपुर से आवागमन आसान था तो अंग्रेज़ों ने वहां मिलें लगाईं. उन्नाव को यह फ़ायदा नहीं मिला."

साक्षी की सांसदी

इमेज कॉपीरइट ROHIT GHOSH

कानपुर के वरिष्ठ पत्रकार रमेश वर्मा कहते हैं, "उन्नाव का वही हाल हुआ है जो एक दुबले-पतले आदमी का दो पहलवानों के बीच होता है. आज़ादी के बाद लखनऊ उत्तर प्रदेश की राजधानी बना तो उसका विकास तो होना था ही. कानपुर एक औद्योगिक शहर था. इसीलिए आज़ादी के बाद भी सभी उद्योग कानपुर में ही लगे."

वे कहते हैं कि "उन्नाव का दुर्भाग्य यह रहा है कि वहां से कोई भी ऐसा सांसद नहीं चुना गया जो दूरदर्शी हो."

इमेज कॉपीरइट PTI

वर्तमान सांसद साक्षी महाराज कट्टर हिंदू नेता की छवि रखते हैं. कुछ दिन पहले उन्होंने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त कह दिया था.

इसके बाद उन्होंने कह दिया कि हर हिंदू को कम से कम चार बच्चे पैदा करने चाहिए.

रमेश वर्मा कहते हैं, "आपत्तिजनक ब्यान देकर साक्षी महाराज सुर्ख़ियों में बने रहना चाहते हैं. उन्हें बयान देने से फ़ुर्सत नहीं है. वे कहां उन्नाव के विकास के बारे में सोचेंगे?"

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार