'..तो गोभी के पराठों की आएगी याद'

श्रद्धा प्रसाद इमेज कॉपीरइट Shradha Prasad

उन्नीस साल की श्रद्धा प्रसाद अपने मां-बाप की अकेली संतान हैं, पर उन्हें इसकी फ़्रिक्र नहीं कि मंगल ग्रह पर जाने का सपना पूरा हो भी जाए तो वहां से वापसी की कोई गारंटी नहीं है.

उनका कहना है, ''अपने सपने पूरे करने के लिए थोड़ा बलिदान तो देना ही पड़ता है.''

कोयंबटूर में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहीं श्रद्धा ने 2013 में उस प्रोग्राम के लिए अर्ज़ी दी थी जिसके तहत 2024 में लोगों को मंगल ग्रह भेजने की योजना है.

अनुमान है कि यह अंतरिक्ष यान मंगल ग्रह पर साल 2025 तक पहुंचेगा.

दरअसल नीदरलैंड की 'मार्स वन' नाम की एक ग़ैरसरकारी संस्था मंगल ग्रह पर बस्ती बसाने की योजना बना रही है और उसी प्रतियोगिता के तहत तीन भारतीयों का नाम उन सौ लोगों की सूची में आ गया है, जो अगले राउंड में आगे जाएंगे.

सूची में नाम आने पर श्रद्धा ने ख़ुशी जताते हुए कहा, ''बेहद ख़ुश हूं कि मैं प्रतियोगिता की इस कड़ी तक पहुंच गई हूं. मुझे हमेशा से अंतरिक्ष विज्ञान में बहुत रुचि थी और फिर किसी दूसरे ग्रह पर जाकर रहने का मौका बार-बार नहीं मिलता. मुझे जोखिम भरे काम बहुत पसंद हैं और अगर इस प्रतियोगिता में आगे जाती हूं तो यह जोखिम ज़रूर लेना पसंद करूंगी.''

दो अन्य भारतीय

इमेज कॉपीरइट Shradha Prasad

श्रद्धा के अलावा इस सूची में 29 वर्षीय तरनजीत सिंह भाटिया भी हैं जो फ़्लोरिडा में कंप्यूटर साइंस में डॉक्टरेट की पढ़ाई कर रहे हैं. इसी तरह 26 वर्षीय रितिका सिंह को मौक़ा मिला है, जो दुबई में रहती हैं.

श्रद्धा ने बीबीसी को बताया कि शुरुआत में उनके माता-पिता ने उनका साथ नहीं दिया, लेकिन जब उनका चयन सौ लोगों में हुआ तो उन्हें उन पर गर्व होने लगा है.

उनका कहना था, ''शुरुआत में मेरे माता-पिता नहीं चाहते थे कि मैं इस प्रतियोगिता में हिस्सा तक लूं. फिर उन्हें लगा कि मेरा चयन एक या दो राउंड से ऊपर नहीं हो पाएगा. लेकिन अब जब मैं यहां तक पहुंच गई हूं, तो उनका डर गर्व में बदल गया है.''

मंगल ग्रह पर जाने की प्रतियोगिता का चौथा और आख़िरी इंटरव्यू राउंड अभी बाक़ी है. इसमें कुल चार लोगों को चुना जाएगा.

जब मैंने श्रद्धा से पूछा कि अगर उनका नाम इन चार लोगों में आता है और वह मंगल ग्रह जा पाती हैं, तो उन्हें किस चीज़ की सबसे ज़्यादा याद आएगी.

श्रद्धा ने कहा, ''मुझे सबसे ज़्यादा भारतीय खानपान की याद आएगी. ख़ासतौर पर गोभी के पराठों की. मुझे ये पराठे इतने पसंद हैं कि एक बार मैं इन्हें खाना शुरू करती हूं तो रुक नहीं पाती.''

बहरहाल मंगल पर जाने तक की राह अभी बहुत लंबी है और फिलहाल श्रद्धा गोभी के पराठों का भरपूर आनंद ले सकती हैं.

बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.

संबंधित समाचार