खजुराहो में शास्त्रीय नृत्य का मेला

  • 25 फरवरी 2015
खजुराहो नृत्य समारोह इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

मध्य प्रदेश के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल खजुराहो में उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत और कला अकादमी का 41वें खजुराहो नृत्य समारोह हुआ.

इसका आग़ाज़ हुआ दीप्ति ओमचेरी भल्ला के मोहिनीअट्टम नृत्य से.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

भारतीय शास्त्रीय नृत्य शैलियों के साथ-साथ इस वर्ष भी रूपंकर कलाओं का मेला 'आर्ट मार्ट', आन्ध्र प्रदेश के कला वैभव की प्रदर्शनी 'नेपथ्य', देशज जनोपयोगी कला परंपरा से साक्षात्कार 'हुनर' और कलावार्ता गतिविधि हो रही है.

मोहिनीअट्टम एक कौसिकी वृत्ति का भारतीय नृत्य है. इसके स्त्रैण गुण इसे नारीत्व का प्रतीक बनाते हैं.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

नृत्यांगना दीप्ति ओमचेरी भल्ला ने महज़ चार साल की उम्र से संगीत और नृत्य की तालीम लेनी शुरू कर दी थी और कलामंडलम कलकुट्टी अम्मा और गुरु सदनम् बालकृष्णन से मोहिनीअट्टम का प्रशिक्षण लिया.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

सुविख्यात भरतनाट्यम और कुचिपुड़ी नृत्यांगना द्रौपदी प्रवीण एवं पद्मिनी कृष्णन की जोड़ी ने अपनी सुंदर और लावण्यमयी प्रस्तुतियों से दर्शकों का दिल जीत लिया.

अभिनय और नृत्य में पारंगत द्रौपदी प्रवीण में तीन वर्ष की आयु से ही नृत्य शुरू कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

कुचिपुड़ी नृत्यांगना पद्मिनी कृष्णन ने नृत्य की बारीकियां गुरु शैलजा से सीखीं. वह नृत्य के अलावा कर्नाटक संगीत में शिक्षा ले रही हैं.

जयपुर घराने की विख्यात कथक नृत्यांगना मोनिसा नायक ने ख़ुद को इसकी बारीकियाँ सीखने में समर्पित किया है.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

अपनी नृत्य प्रवीणता से उन्होंने देश-विदेश में दर्शकों का मन जीत लिया है.

ऐश्वर्या सिंह को नृत्य में आगे बढ़ने की प्रेरणा उनके माता पिता से मिली.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

उन्होंने सृजन से ओडिसी नृत्य का प्रशिक्षण लिया और इस शैली की बारीकियों को आत्मसात कर रही हैं.

उन्होंने धौली महोत्सव, नादाम महोत्सव जैसे प्रतिष्ठित महोत्सवों में प्रस्तुतियां दी हैं.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

सुप्रसिद्ध भरतनाट्यम नृत्यांगना अरूपा लाहिरी की नृत्य प्रतिभा को विख्यात नृत्य गुरु चित्रा विश्वेश्वरमन ने संवारा.

वह कार्यशालाओं के ज़रिए नृत्य के क्षेत्र में सक्रिय भूमिका निभा रही हैं.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

प्रतिभाशाली, समर्पित और ऊर्जावान युवा कलाकार सुरश्री भट्टाचार्य ने कत्थक की तालीम बचपन से ली थी.

उन्हें पंडित बिरजू महाराज से यह नृत्य शैली सीखने का अवसर मिला.

खजुराहो नृत्य समारोह का समापन 26 फ़रवरी को कुमुदिनी लखिया की कत्थक प्रस्तुति से होगा.

इसका आयोजन मध्यप्रदेश शासन संस्कृति विभाग पिछले 40 साल से कर रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार