पुतिन के आलोचक नेम्तसोव की हत्या

व्लादिमीर पुतिन के आलोचक बोरिस नेम्तसोव की हत्या इमेज कॉपीरइट AP

रूस की राजधानी मॉस्को में पूर्व उप प्रधानमंत्री और विपक्षी नेता बोरिस नेम्तसोव की गोली मारकर हत्या कर दी गई है.

पुलिस का कहना है कि नेम्तसोव क्रेमलिन के पास एक पुल को पार कर रहे थे, तभी एक कार में सवार एक अज्ञात बंदूकधारी ने उनकी कमर में चार गोलियां दाग़ीं.

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आलोचक समझे जाने वाले नेम्तसोव ने रविवार को यूक्रेन में जारी युद्ध के ख़िलाफ़ एक मार्च आयोजित करने की अपील की थी.

उनकी इस घोषणा के कुछ घंटों बाद ही उनकी हत्या हो गई.

क्रेमलिन के मुताबिक राष्ट्रपति पुतिन ने इस घटना की निंदा की है. उनके प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने बताया है कि पुतिन ख़ुद इस घटना की जांच की निगरानी करेंगे.

हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में नेम्तसोव ने कहा था कि उन्हें डर है कि यूक्रेन में हो रहे युद्ध का विरोध करने की वजह से पुतिन उनकी हत्या करवा सकते हैं.

55 वर्षीय नेम्तसोव 1990 के दशक में राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन के कार्यकाल में उप प्रधानमंत्री रह चुके थे.

'पुल ध्वस्त'

जांच अधिकारियों का कहना है कि हो सकता है कि यह हत्या 'देश को अस्थिरता करने के इरादे से की गई हो'.

पढ़ें- रूस: पुतिन विरोधी नेता को जेल

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने घटना की निंदा की है. उन्होंने कहा है कि रूसी सरकार को इस हत्या की ‘निष्पक्ष और पारदर्शी’ तरीके से तुरंत जांच होनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट AFP

यूक्रेन के राष्ट्रपति पेत्रो पोरोशेंको ने नेम्तसोव को रूस और यूक्रेन के बीच के पुल की तरह बताया और कहा कि 'कातिलों ने इस पुल को ध्वस्त कर दिया है. मुझे नहीं लगता कि यह कोई दुर्घटना है.’

पहले से क्या डर था बोरिस नेम्तसोव को?

इमेज कॉपीरइट AP

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)