योगेंद्र, प्रशांत भूषण को पीएसी से हटाया गया

आम आदमी पार्टी में मचे अंदरूणी घमासान के बीच पार्टी दिल्ली में हुई बैठक में योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को राजनीतिक मामलों के पैनल में निकाल दिया गया है.

घंटों तक चली बैठक के बाद पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में यह फ़ैसला हुआ.

लेकिन बैठक के बाद बाहर निकले प्रशांत भूषण ने इसकी पुष्टि की और कहा कि फ़ैसला बहुमत से हुआ और कार्यकारिणी का फ़ैसला सबके लिए मान्य होता है.

वहीं फ़ैसले के बाद आप नेता कुमार विश्वास ने कहा, "बैठक में आप के सभी साथियों ने कहा कि सब पार्टी के साथ हैं. पार्टी में फ़ैसला किया गया है कि दो वरिष्ठ साथियों योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को नई ज़िम्मेदारी दी जाए जो बाद में तय की जाएगी. साथ ही संयोजक पद से अरविंद केजरीवाल का इस्तीफ़ा नामंज़ूर कर दिया गया."

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण के बीच रिश्ते कुछ समय से अच्छे नहीं चल रहे. और पिछले कुछ दिनों से ये मतभेद सुर्खियों में हैं.

केजरीवाल नहीं आए

इमेज कॉपीरइट twitter

अरविंद केजरीवाल आम आदमी पार्टी की इस बैठक में शामिल नहीं हुए.

आम आदमी पार्टी ने भी कुछ दिन पहले एक प्रेस कॉन्फ़्रेस में कहा था कि अरविंद केजरीवाल को पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक पद से हटाने की कोशिशें हो रही हैं हालांकि किसी का नाम नहीं लिया गया था.

हालांकि केजरीवाल ख़ुद इस पूरे घटनाक्रम पर दुख जता चुके हैं और ट्विटर पर उन्होंने लिखा था, “दिल्ली ने हमारे ऊपर विश्वास जताया है. ये उनके साथ धोखा है. मैं सिर्फ़ दिल्ली के शासन पर ध्यान दूंगा. जनता के भरोसे को किसी भी हालत में टूटने नहीं दूंगा.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)