'इंडियाज़ डॉटर' से रोक हटे: एडिटर्स गिल्ड

लेज़्ली उडविन, प्रोड्यूसर, इंडियाज़ डॉटर इमेज कॉपीरइट AP

एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया ने भारत सरकार से दिसंबर 2012 में हुए दिल्ली सामूहिक बलात्कार पर बनी डॉक्यूमेंट्री 'इंडियाज़ डॉटर' पर लगी रोक हटाने की अपील की है. इस डाक्यूमेंट्री का प्रसारण ब्रिटेन में बीबीसी फ़ोर चैनल पर चार मार्च को हुआ था.

लेज़्ली उडविन की डॉक्यूमेंट्री 'इंडियाज़ डॉटर' में दिल्ली सामूहिक बलात्कार के दोषियों में से एक मुकेश सिंह का इंटरव्यू दिखाया गया है. यह इंटरव्यू दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल के भीतर किया था.

सकारात्मक पहलू

सरकार के फ़ैसले पर एडिटर्स गिल्ड ने कहा है कि डॉक्यूमेंट्री पर लगी रोक पूरी तरह से ग़लत है. गिल्ड की तरफ़ से जारी किए गए एक बयान में कहा गया है, "डॉक्यूमेंट्री में बलात्कार पीड़ित युवती के परिवार की उदार दृष्टि, संवेदनशीलता और साहस को दिखाया गया है."

इमेज कॉपीरइट AFP

गिल्ड के मुताबिक़ यह कहना भी ग़लत है कि यह विषय अदालत के पास विचाराधीन है और दोषी करार दिए गए लोग इस फ़िल्म का इस्तेमाल अपने हित में कर लेंगे या पीड़िता के माता-पिता की संवेदनशीलता पर चोट कर सकता है.

गिल्ड ने कहा है कि डॉक्यूमेंट्री पर लगी रोक हटाने से लोग इसके सकारात्मक पहलुओं को भी समझ सकेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार