ट्विटर पर छाई एनडीटीवी की 'ख़ामोशी'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

भारत में प्रतिबंधित डॉक्यूमेंट्री ‘इंडियाज़ डॉटर’ रविवार को उस वक़्त ट्विटर पर ट्रेंड करने लगी, जब एनडीटीवी चैनल ने घंटे भर स्क्रीन पर डॉक्यूमेंट्री का नाम और एक जलता हुआ दिया दिखाया.

इस डॉक्यूमेंट्री में दिल्ली गैंगरेप के एक दोषी का इंटरव्यू दिखाया गया.

भारत सरकार ने डॉक्यूमेंट्री को बीबीसी से प्रसारित न करने को कहा था, लेकिन बीबीसी ने अपने जवाब में कहा कि ये डॉक्यूमेंट्री उसके संपादकीय दिशानिर्देशों के अनुरूप है और ब्रिटेन में बीबीसी4 पर इसका प्रसारण किया गया.

शाबाशी

इमेज कॉपीरइट AFP

रविवार को एनडीटीवी की स्क्रीन पर दिखे इस दृश्य की ट्विटर पर जोर शोर से चर्चा हो रही है.

जानी मानी पत्रकार तवलीन सिंह ने @tavleen_singh से लिखा, “इतने सार्थक तरीक़े से इंडियाज़ डॉटर पर प्रतिबंध का विरोध करने के लिए शाबाश एनडीटीवी. सेंसरशिप के ख़िलाफ़ एक घंटे तक कुछ नहीं.”

एक अन्य टीवी पत्रकार सुहासिनी हैदर ने ‏@suhasinih से लिखा, “अगर सरकार डॉक्यूमेंट्री पर ख़ामोशी चाहती है, तो उसे वही मिली. जरा सावधान बरतिए कि आप क्या चाहते हैं.”

इस डॉक्यूमेंट्री के सह-निर्माता और जाने माने पत्रकार दिबांग ने भी एनडीटीवी के क़दम को सराया. उन्होंने @dibang से लिखा, “चुप्पी बहुत कुछ बयान कर गई. स्पष्टता और बुलंदी के साथ.”

उन्होंने समर्थन के लिए एनडीटीवी का शुक्रिया भी अदा किया.

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने एनडीटीवी के इस कदम पर ‏@abdullah_omar से लिखा, “इंडियाज़ डॉटर पर प्रतिबंध का विरोध करने के लिए एनडीटीवी को शाबाशी, वो भी कोई शोर शराबा किए बिना. उम्मीद है कि अब प्रतिबंध हटेगा.”

इमेज कॉपीरइट epa

कई लोग ये कह कर डॉक्यूमेंट्री का विरोध कर रहे हैं इस में बलात्कार के एक दोषी को मंच दिया गया है.

आलोचना

वहीं कई लोग एनडीटीवी की आलोचना भी कर रहे हैं.

मुकेश इंग्ले नाम के एक यूज़र ने लिखा, “एनडीटीवी तुम बहुत पक्षपाती हो और संदिग्ध हो.”

सुजीत कुमार @Sujit047Kumar से लिखा है, “अगर एनडीटीवी को हमेशा के लिए बंद कर दिया जाए तो ये बहुत बड़ी मदद होगी.”

राजेश ओझा ‏@rajesh1_ojha से लिखते हैं, “पहले एनडीटीवी अपने पसंद के मंत्री बनवाना चाहता था और अब वो सरकार से अपनी मर्ज़ी के फैसले चाहता है.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार