दीमापुर: कर्फ़्यू हटा, 42 की गिरफ़्तारी

दीमापुर इमेज कॉपीरइट AP

नागालैंड के शहर दीमापुर में बलात्कार के अभियुक्त की पीट-पीटकर हत्या किए जाने के तीन दिन बाद धीरे-धीरे हालात सुधर रहे हैं.

गुरुवार, पांच मार्च को हज़ारों लोगों की भीड़ ने दीमापुर सेंट्रल जेल में बंद सैयद शरीफ़ ख़ान नाम के क़ैदी को जेल से बार निकाला और उसके कपड़े फाड़ दिए. फिर उसकी पीट पीटकर हत्या कर दी थी.

42 लोग गिरफ़्तार

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, प्रशासन ने कर्फ़्यू उठा लिया है और आम जीवन धीरे-धीरे सामान्य होने लगा है.

इमेज कॉपीरइट AP

दीमापुर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक काखेतो ने कहा है कि धारा 144 फ़िलहाल लगी हुई है. अलग-अलग धाराओं में अब तक 43 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.

उन्होंने कहा, “पुलिस की धरपकड़ जारी है और वारदात में शामिल सभी लोगों को गिरफ़्तार कर लिया जाएगा.”

पुलिस के अनुसार सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठानों से कहा गया है कि वे ऐहतियात के तौर पर दोपहर बाद अपना कारोबार बंद कर दें.

अब तक यह साफ़ नहीं हो पाया है कि गिरफ़्तार किए गए लोग हत्या में सीधे तौर पर जुड़े थे या नहीं.

जाँच जारी

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी वबांग जमीर ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "हम ये पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि भीड़ का हिस्सा होने के अलावा क्या ये लोग सीधे तौर पर सैयद शरीफ़ ख़ान की हत्या के लिए ज़िम्मेदार थे?"

उन्होंने दावा किया कि घटना के वीडियो और सोशल मीडिया पर आए फ़ोटो के ज़रिए पुलिस ने कई और लोगों की पहचान कर ली है.

एनएपी रेंज के डीआईजी लिरमो लोथा ने सोमवार की सुबह कहा था कि स्थिति नियंत्रण में है.

सोमवार शाम छह बजे तक इंटरनेट, एसएमएस और एमएमएस पर रोक लगी रही. शनिवार को इंटरनेट पर एक वीडियो वायरल हो गया था, जिसमें अभियुक्त की पीट-पीट कर हत्या करने का दृश्य दिखाया गया था. उसके बाद ही इंटरनेट, एसएमएस और एमएमएस पर रोक लगा दी गई थी.

(नोट: पहले पुलिस ने अभियुक्त का नाम फ़रीद ख़ान बताया था, लेकिन बाद में अभियुक्त के भाई ने बताया कि उसका असली नाम सैयद शरीफ़ ख़ान है)

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार