क्या आम आदमी पार्टी टूट की ओर बढ़ रही है?

इमेज कॉपीरइट AFP

आम आदमी पार्टी की आज की स्थिति देखकर काफ़ी हताशा होती है. जो सिरफुटव्वल नज़र आ रही है वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.

लोग एक-दूसरे के बारे में बोलें इसमें कोई हर्ज़ नहीं है. एक पारदर्शी और प्रगतिशील पार्टी में तो इसकी भी छूट होनी चाहिए कि लोग पार्टी के ख़िलाफ़ भी बोलें. जो भी लोग पार्टी के ख़िलाफ़ बोलते हैं वह पार्टी के दुश्मन नहीं होते.

अगर अंदर के आदमी को आप दुश्मन मान लेंगे तो सवाल उठाने की परंपरा को आप ख़त्म कर देंगे. ऐसे में चापलूसों की जमात तैयार हो जाएगी. और ऐसी पार्टियां हमारे यहां पहले ही बहुत हैं.

इसलिए अलग तरह की पार्टी का जो ख़ाका पार्टी ने पेश किया था उसे इस सबसे ठेस पहुंची है.

'टूट जाएगी पार्टी'

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

केजरीवाल के बारे में मेरा मानना है कि वह बहुत अच्छे प्रशासक साबित हो सकते हैं और जितने वक्त रहे हैं उसमें साबित हुए भी हैं.

लेकिन सरकार चलाना अलग बात है और संगठन चलाना अलग बात. संगठन के मोर्च पर उन्होंने अब तक खुद को विफल साबित किया है -ख़ासतौर पर राजनीतिक मामलों की समिति से इन दोनों नेताओं को निकालने की जो कार्रवाई हुई है.

इस तरह से निकालना तो सबसे बड़ी सज़ा होती है. लेकिन फिर भी जो हुआ उसमें वह खुद मौजूद रह सकते थे.

वह दिल्ली में मौजूद थे और नहीं गए बैठक में- फिर उनके विश्वस्त लोगों ने जिस तरह से कार्रवाई की वह भी ख़राब था. और ऐसा भी नहीं था कि केजरीवाल को मालूम नहीं था कि क्या हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट

इसके अलावा उन्होंने दोनों पद अपने पास रखे हुए हैं. मुख्यमंत्री भी वह हैं और पार्टी के मुखिया भी.

सरकार नए ढंग से चलनी चाहिए थी तो पार्टी भी. पार्टी में जिन लोगों ने उन पर सवाल खड़े किए वह उनके अपने लोग थे.

उन लोगों की छुट्टी करने से क्या संदेश जाता है कि आप वही कीजिए जो केजरीवाल को अच्छा लगता है.

यह उसी किस्म की राजनीति होगी जिससे बचने के लिए लोगों ने उन्हें वोट दिया था.

इमेज कॉपीरइट PTI

अब भी अगर केजरीवाल पारदर्शी तरीके से चीजों को नहीं संभालते हैं तो पार्टी टूट की प्रक्रिया की तरफ़ ही बढ़ रही है.

आज दो लोग जा रहे हैं, कल दस जाएंगे, बीस निकाल दिए जाएंगे तो यह पार्टी वह पार्टी तो नहीं रह जाएगी जिसके लिए लोगों ने उन्हें सत्ता सौंपी है.

(बीबीसी संवाददाता निखिल रंजन से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार