रेप को रैप से चुनौती दे रही हैं 'बॉमबेब्स'

बॉमबेब्स इमेज कॉपीरइट Other

भारत में दो लड़कियां 'पिछड़ी मानसिकता' को रैप गाकर चुनौती दे रही हैं.

मुंबई की रंगकर्मी उपेखा जैन कहती हैं, "भारत में महिला सुरक्षा के लिए कुछ न करने के बजाय कुछ करना बेहतर है."

उपेखा और उनकी टीवी एंकर दोस्त पंखुड़ी अवस्थी भारत में बलात्कार के बढ़ते मामलों से दुखी थीं, इसलिए उन्होंने 'स्थिति को सुधारने के लिए अपनी तरफ़ से कोशिश' करने का फ़ैसला किया.

उन दोनों ने भारत में यौन हमलों को लेकर एक 'रैप वीडियो' बनाया, जिसे यूट्यूब पर अबतक तीन लाख से ज़्यादा लोग देख चुके हैं.

'संदेश'

इमेज कॉपीरइट Other

ये कलाकार खुद को 'बॉमबेब्स' कहती हैं. उन्होंने अपने गाने में इस समस्या को उभारने के लिए चुभने वाले जुमले इस्तेमाल किए हैं.

इस गीत की कुछ पंक्तियां हैंः

लेकिन आप सोचते हो कि यह ऐसा कैसे हो गया

न, अब शर्माओ मत, तुम भी इसी संस्कृति का हिस्सा हो

हिस्सा हो उन वकीलों के, जो मार डालेंगे

और उन नेताओं के, जो हमारी इच्छाओं पर पाबंदी लगा देंगे

और उन सब दूसरे खून चूसने वाले गिद्धों के

अब हमें बलात्कारों की ज़मीन के नाम से जाना जाता है.

'शुरुआत ही सफलता'

इमेज कॉपीरइट AP

पंखुड़ी कहती हैं कि उन्हें नहीं लगता था कि यह वीडियो वायरल हो जाएगा, क्योंकि 'उनका इरादा सिर्फ़ संदेश देना था.'

वह कहती हैं, "मुझे ख़ुशी है कि इतने सारे लोगों ने यह वीडियो देखा. यह दिखाने में हमने बस एक छोटी सी भूमिका निभाई है कि हम एक गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं."

वह कहती हैं कि उन्हें अक्सर मुंबई की सड़कों पर दिक्कतें झेलनी पड़ती हैं.

वह कहती हैं, "मैं एक टीवी एंकर हूं और मुझे अक्सर शूट के लिए मेकअप करना पड़ता है. जब मैं काम पर जाने के लिए तैयार होती हूं तो सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करना करीब-करीब असंभव होता है. मुझे अक्सर सीटी बजाए जाने या अन्य तरह की छेड़छाड़ का सामना करना पड़ता है."

इमेज कॉपीरइट
Image caption उपेखा जैन को लगता है कि भारतीय युवाओं को यौन अपराध के ख़िलाफ़ खुलकर बोलने की ज़रूरत है.

उपेखा कहती हैं कि सिर्फ़ ट्विटर और दूसरे सोशल मीडिया पर शिकायत करने से दिक्कत दूर नहीं होगी, "हम जानते हैं कि हमारे वीडियो से हक़ीकत में कोई बड़ा बदलाव नहीं आने वाला, लेकिन अगर यह वीडियो देखने के बाद 10 लोग भी सही दिशा में सोचना शुरू करते हैं तो हमें इसे सफलता ही मानेंगे."

इस वीडियो ने भारत में बलात्कार की घटनाओं पर फिर से प्रकाश डाला है.

लेकिन यह कितने दिन टिकेगा, यह बताना मुश्किल होगा.

हालांकि बॉमबेब्स कहती हैं, "हमें अपनी कोशिशें जारी रखने की ज़रूरत है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार