छत्तीसगढ़ में 12 कर्मचारी गिरफ़्तार

नागरिक आपूर्ति निगम इमेज कॉपीरइट AFP

छत्तीसगढ़ के बहुचर्चित नागरिक आपूर्ति निगम में भ्रष्टाचार के मामले में एंटी करप्शन ब्यूरो ने शुक्रवार को 12 कर्मचारियों को गिरफ़्तार किया है.

आरोप है कि नागरिक आपूर्ति निगम में खाद्य सामग्रियों की बड़े पैमाने पर हेराफेरी की गई. कई अफ़सरों पर आय से अधिक संपत्ति रखने का भी आरोप है.

गिरफ़्तार लोगों को रायपुर की स्थानीय अदालत में पेश किया गया, जहां से सभी लोगों को 4 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

इससे पहले, 12 फ़रवरी को एंटी करप्शन ब्यूरो ने राज्य में 28 स्थानों पर छापा मारा था और करोड़ों रुपए की नकदी समेत कई महत्वपूर्ण दस्तावेज़ ज़ब्त किए थे.

कांग्रेस का प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट Reuters

छापेमारी की इस कार्रवाई के बाद 18 अधिकारियों को निलंबित किया गया था.

पिछले एक पखवाड़े से राज्य की विधानसभा में यह घोटाला गर्माया हुआ है. कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे पर विधानसभा से सड़क तक प्रदर्शन कर रही है.

कांग्रेस का आरोप है कि पूरा घोटाला एक लाख करोड़ रुपए से अधिक का है और मामले की जांच सीबीआई से करवाई जानी चाहिए.

राज्य में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव आरोप लगाते हैं, “छापे में एक डायरी ज़ब्त की गई है, जिसमें मुख्यमंत्री, उनके परिवार के सदस्य, मुख्यमंत्री निवास के कर्मचारी, मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव सहित अन्य वरिष्ठ अफ़सरों के नामों का उल्लेख है. क्योंकि एसीबी और आर्थिक अपराध शाखा मुख्यमंत्री के ही अधीन है, इसलिए मामले की निष्पक्ष जांच संभव नहीं है.”

हालाँकि राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह लगातार दावा कर रहे हैं कि पूरे मामले की निष्पक्ष जांच हो रही है और इसमें शामिल किसी व्यक्ति को बख़्शा नहीं जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार