भारतीयों को लाने यमन भेजा गया विमान

यमन इमेज कॉपीरइट AFP

खाड़ी देशों में बिगड़ते हालातों के मद्देनज़र भारत ने यमन में फंसे अपने सैकड़ों नागरिकों को वापस लाने के लिए अपना पहला विमान भेज दिया है.

180 सीट वाले एयरबस ए-320 एयरक्राफ्ट ने सोमवार सुबह 7:45 बजे मस्कट होते हुए यमन की राजधानी सना जाने के लिए उड़ान भरी.

सना से प्रतिदिन तीन घंटे की उड़ान परिचालन की अनुमति मिलने के बाद भारत ने यमन के लिए उड़ान परिचालन शुरु किया.

इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एलान किया था कि भारतीयों को वापस लाने के लिए 1,500 लोगों की क्षमता वाले एक जहाज़ को भी भेजा जाएगा.

कई भारतीय फंसे

इमेज कॉपीरइट epa

शनिवार को करीब 80 भारतीय सना से जिबूती आ गए, जहां पर भारतीय मिशन उनकी घर लौटने में मदद करेगा.

यमन के हालात पर नज़र रखने के लिए भारत सरकार ने एक 24 घंटे के नियंत्रण कक्ष की शुरुआत की है.

यमन में सऊदी अरब के लड़ाकू विमानों की बमबारी के चलते सभी एयरपोर्ट भी बंद कर दिए गए हैं.

वहां फंसे करीब 3,500 भारतीयों में अधिकतर नर्सें हैं, जो सना सहित यमन के कई प्रांतों में फंसी हुईं हैं.

तनावपूर्ण हालात

इमेज कॉपीरइट Reuters

यमन के बड़े इलाक़े पर पर शिया हूती विद्रोहियों और पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सालेह की वफादार सेना का क़ब्ज़ा है.

इन्होंने राष्ट्रपति मंसूर हादी को बाहर निकाल दिया है.

जिसके बाद सऊदी अरब के लड़ाकू विमानों ने गुरुवार को यमन में हूती विद्रोहियों के ठिकानों पर बमबारी शुरु कर दी थी.

सऊदी अरब के शाह सलमान ने बीते दिनों अरब लीग की बैठक में ऐलान किया था कि जब तक हूती विद्रोही पीछे नहीं हट जाते, तब तक उनके देश की अगुवाई में हवाई हमले जारी रहेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार