गांधी के 'हरिजन' को लगी किसकी 'नज़र'

आर्यभूषण प्रेस, पुणे इमेज कॉपीरइट Other

महाराष्ट्र का पुणे शहर जिन ऐतिहासिक स्थलों के लिए जाना जाता है, उनमें से एक है आर्यभूषण छापाखाना.

ये वो जगह है जहां महात्मा गांधी का अख़बार 'हरिजन' छपता था.

लेकिन अब इस विरासत के भी व्यावसायिकता के हत्थे चढ़ जाने की आशंका व्यक्त की जा रही है.

(पढ़ेंः गांधी भक्तों के लिए जरूरी...)

महात्मा गांधी के राजनैतिक गुरु गोपाल कृष्ण गोखले के पड़पोते सुनील गोखले ने आरोप लगाया है कि आर्यभूषण छापाखाने के निदेशक मंडल ने इसे बेचने की योजना बनाई है और यहां मॉल और होटल बनाने की कोशिशें चल रही हैं.

वर्तमान इमारत

इमेज कॉपीरइट Other

'हिंद सेवक समाज' (सर्वेंट्स ऑफ़ इंडिया सोसायटी) की स्थापना के बाद गोखले ने 1906 में इस छापाखाने की स्थापना की थी.

(पढ़ेंः गांधी एक प्रेत का नाम है...)

पहले यह छापाखाना 'किबे वाडा' नामक इमारत में चलता था. उस समय इस छापाखाने में 200-250 लोग काम करते थे. लेकिन 1926 में किबे वाडा आग में ख़ाक़ हो गई.

इसके बाद यहां के कामगारों ने एक होकर अपने चंदे से वर्तमान इमारत बनाई. इस इमारत को 'हेरिटेज बिल्डिंग' का दर्जा प्राप्त है.

सुधारवादी क़दम!

इमेज कॉपीरइट Other

ये छापाखाना अपनी आधुनिक मशीनों और सुधारवादी क़दमों के लिए जाना जाता था.

(पढ़ेंः गांधी की हत्या पर क्या...)

बूढ़ों और विकलांगों के लिए काम करने वाली कई संस्थाओं से जुड़े लोगों को यहां काम दिया जाता था.

साल 1932 में जब गांधी येरवडा जेल में बंद थे, तब उन्होंने 'हरिजन' साप्ताहिक शुरू किया. उसकी छपाई यहीं की जाती थी.

आला दर्जे की छपाई

इमेज कॉपीरइट Other

इसके शुरुआती प्रबंधकों में से एक वामनराव पटवर्धन की जीवनी में लिखा है कि प्रेस की वक़्त की पाबंदी वाले काम और आला दर्जे की छपाई की ख़ुद गांधी ने प्रशंसा की थी.

लेकिन धीरे-धीरे छापाखाना पिछड़ता चला गया. हालात ऐसे हो गए कि 2011 में यहां 100 कर्मचारी थे जबकि अब केवल 15 कर्मचारी रह गए हैं.

गोखले कहते है, "संस्था को जानबूझकर अक्षम बनाया गया है. जिस ज़मीन पर यह छापाखाना खड़ा है, वह मूलतः 'हिंद सेवक समाज' की है.

गोखले के वारिस

इमेज कॉपीरइट DEVIDAS DESHPANDE
Image caption गोपालकृष्ण गोखले के वारिस होने के नाते सुनील गोखले यह मुद्दा उठा रहे हैं.

उनका कहना है, "निदेशक मंडल ने जलगांव स्थित एक प्रकाशन संस्था को इस प्रेस के अहाते में 15 हज़ार वर्ग फ़ुट जगह पर निर्माण कार्य करने की अनुमति दी है. साथ ही मूल इमारत में भी तोड़फोड़ की जा रही है. इसके लिए सहकारिता विभाग और पुरातत्त्व विभाग की अनुमति नहीं ली गई है."

सुनील गोखले का संस्था से कोई संबंध नहीं है लेकिन गोपाल कृष्ण गोखले के वारिस होने के नाते वे इस मुद्दे को उठा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

राज्य के सहकारिता मंत्री और मुख्यमंत्री तक से उन्होंने इसकी शिकायत की है.

इधर संस्था के निदेशक अंकुश काकडे का कहना है कि इस इमारत को कोई आंच नहीं आएगी.

उन्होंने कहा, "यह इमारत ग्रेड-2 हेरिटेज इमारत है. यहां किसी तरह का निर्माण कार्य नहीं हो सकता. मशीनरी लाने के लिए कुछ मरम्मत का काम किया गया है लेकिन इस ढांचे को कोई नुक़सान नहीं होगा. हमने जलगांव की संस्था से अनुबंध किया है ताकि प्रेस चलती रहे. इससे संस्था को ही फ़ायदा होगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार