अपनी ही सरकार के सौदे के ख़िलाफ़ स्वामी

रफ़ाल जेट विमान (फ़ाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट Rafael Advanced Defense Systems

भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य सुब्रह्मण्यम स्वामी ने फ्रांस के साथ भारत के जेट विमान सौदे का विरोध किया है.

स्वामी ने धमकी दी है कि वह सरकार के इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अदालत जाएंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फ़्रांस यात्रा के दौरान भारत ने 36 रफ़ाल लड़ाकू विमानों को ख़रीदने का समझौता किया है. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि भारत को ये विमान दो साल में मिल जाएंगे.

पर्रिकर ने कहा, “भारत ने आख़िरकार इस सौदे से जुड़ी दिक्कतें ख़त्म कर दी. ये सौदा 17 साल से टल रहा था.”

स्वामी नाख़ुश

लेकिन भाजपा नेता स्वामी अपनी सरकार के इस फ़ैसले से खुश नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

उन्होंने मोदी से इस सौदे पर मुहर नहीं लगाने की अपील की है.

स्वामी ने दावा किया कि रफ़ाल ईंधन की खपत के मामले में दूसरे विमानों से कमतर है और दुनिया का कोई भी देश इन विमानों को ख़रीदने के लिए तैयार नहीं है.

उन्होंने कहा, “स्विट्ज़रलैंड ने भी इन विमानों को ख़रीदने के लिए एमओयू किया था, लेकिन बाद में इसे रद्द कर दिया.”

स्वामी ने कहा कि अगर सरकार इस सौदे पर आगे बढ़ती है तो वह जनहित याचिका डालकर अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे.

उन्होंने कहा, “अगर फ्रांस को खुश करने के लिए सौदा करना है तो फिर इस कंपनी को ही क्यों नहीं ख़रीद लेते.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार