दोनों भूषण को छोड़ूंगा नहीं: आशीष खेतान

प्रशांत भूषण, शांति भूषण इमेज कॉपीरइट PTI

आम आदमी पार्टी से चार कथित बाग़ी नेताओं को निकाले जाने के बाद बयानों का स्तर अब निजी आरोप-प्रत्यारोप पर उतर आया है.

पार्टी के नेता आशीष खेतान ने वरिष्ठ वक़ील शांति भूषण और उनके बेटे प्रशांत भूषण पर ग़लत तरीके से संपत्ति इकट्ठा करने का आरोप लगाया है.

मीडिया से बातचीत में खेतान ने कहा, "जितनी उनकी चल-अचल संपत्ति है, जितने उनके धंधें हैं, सबकी तहक़ीक़ात होगी, या तो ये साबित करें कि मैं बेईमान हूं या उन्हें अपनी ईमानदारी साबित करनी होगी."

वो बोले, "मैं प्रशांत भूषण जी, शांति भूषण जी और उनके परिवारवालों से कहना चाहता हूं कि उन्होंने मेरे, यानि एक आम आदमी के गिरेबान में हाथ डाला है, मैं उन्हें छोड़ूंगा नहीं."

खेतान के बयान के बाद शांति भूषण ने कहा है कि, "पूरे देश में कोई भी मेरी या मेरे बेटे की ईमानदारी पर सवाल नहीं उठा सकता."

'पेड न्यूज़ का आरोप'

इमेज कॉपीरइट PTI

इससे पहले सोमवार देर रात आम आदमी पार्टी की अनुशासन समिति ने प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव समेत चार लोगों को पार्टी से निकाल दिया.

इसके बाद प्रशांत भूषण ने कहा, "वही लोग, यानि पंकज गुप्ता और आशीष खेतान, जिनके ऊपर बहुत गंभीर आरोप लग चुके हैं, यही लोग हम पर फ़ैसला करेंगे."

भूषण के मुताबिक इन पर एक फर्ज़ी कंपनी के नाम पर दो करोड़ रुपए के चेक लेने और एक पत्रिका में एस्सार कंपनी से पैसे लेकर उनके पक्ष में लेख लिखने के आरोप हैं.

पार्टी ने यादव और भूषण को सोमवार को कारण बताओ नोटिस जारी किया था, जिसका जवाब मिलने के बाद उन्हें पार्टी से निकालने का फ़ैसला लिया गया.

अपने जबाव में प्रशांत भूषण ने अनुशासन समिति के गठन पर ही सवाल उठाते हुए इसे असंवैधानिक करार दिया और समिति में शामिल दो सदस्यों पंकज गुप्ता और आशीष खेतान को हटाने की भी मांग की थी.

इस पूरे घटनाक्रम के बाद आशीष खेतान ने प्रशांत भूषण और शांति भूषण पर 'करोड़ों की संपत्ति' जमा करने पर सवाल उठाए हैं.

आशीष के मुताबिक अन्ना आंदोलन के दौरान प्रशांत भूषण ने अपनी संपत्ति के ब्यौरे में चार प्रॉपर्टी की कीमत दो करोड़ रुपए बताई थी जो आम समझ से परे है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक पर और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार