रैली बंद कर देनी चाहिए थी: केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल इमेज कॉपीरइट AP

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की रैली में किसान की आत्महत्या के मामले में अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि मंच से पेड़ दूर होने के कारण वे अंदाज़ा नहीं लगा पाए थे कि किसान आत्महत्या कर रहा है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री, अरविंद केजरीवाल ने यह भी कहा है कि शायद पुलिसवाले भी अंदाज़ा नहीं लगा पाए होंगे कि पेड़ पर चढ़ा किसान आत्महत्या कर रहा है.

रैली जारी रखने के सवाल पर केजरीवाल ने कहा, "मुझे लगता है कि मुझे रैली बंद कर देनी चाहिेए थी. यह मेरी ग़लती थी."

22 अप्रैल को दिल्ली के जंतर-मंतर पर आम आदमी पार्टी की रैली में राजस्थान के दौसा ज़िले के एक किसान ने आत्महत्या कर ली थी.

उन्होंने यह भी कहा कि मीडिया को सवाल यह पूछना चाहिए कि ''किसान आत्महत्या कर क्यों रहे हैं.''

मीडिया उछाल रही है मुद्दे को

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption रैली में अरविंद केजरीवाल मनीष सिशोदिया के साथ

केजरीवाल ने यह भी कहा है कि मीडिया सिर्फ़ टीआरपी के लिए इस मुद्दे को उछाल रही है.

समाचार एजेंसी एएनआई को दिए साक्षात्कार में केजरीवाल ने कहा है कि किसान की मौत के बाद वो व्यथित हैं और उन्हें रात भर नींद तक नहीं आई.

इमेज कॉपीरइट Surendra Jain Paras
Image caption आप की रैली में राजस्थान के किसान गजेंद्र सिंह ने पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली थी.

हालांकि इस घटना की रिपोर्टिंग पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा, "इसके चीथड़े उड़ाने बंद कर दीजिए, इससे किसानों का भला नहीं हो रहा है. इससे सिर्फ़ टीआरपी बढ़ रही है."

उन्होंने कहा, "पिछले एक-दो दिनों से जो चल रहा है वो ठीक नहीं चल रहा है. मेरा सबसे निवेदन है कि पुलिस और मजिस्ट्रेट की जाँच का इंतज़ार किया जाना चाहिए."

केजरीवाल ने बार-बार कहा कि चर्चा इस बात पर होनी चाहिेए कि किसान आत्महत्या क्यों कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

रैली में किसान की मौत पर संवेदनहीनता के सवाल पर केजरीवाल ने कहा, "लेकिन अब जो जाँच चल रही है उसकी रिपोर्ट का इंतज़ार करना चाहिए."

केजरीवाल ने यह भी कहा कि अगर दिल्ली पुलिस उन्हें बुलाएगी तो वो बयान देने जाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार