बिहार में सबसे अधिक 50 लोगों की मौत

पटना में भूकंप के बाद लोग घरों से बाहर निकल आए इमेज कॉपीरइट NIRAJ SAHAI

नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप के बाद, रविवार को दोबारा आए झटकों से भारत में कुल 66 और बिहार में सबसे ज़्यादा 50 लोगों की मौत हुई है.

भारत के विदेश सचिव एस जयशंकर के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश में 13, पश्चिम बंगाल में 2 और राजस्थान में 1 व्यक्ति की मौत हुई है.

उन्होंने बताया कि बिहार से 256, उत्तर प्रदेश से 43, पश्चिम बंगाल से 52 और सिक्किम में 8 लोगों के घायल होने की ख़बर है.

बिहार में 50 की मौत

भारत में भूकंप का सबसे ज़्यादा असर बिहार में हुआ है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुताबिक़ राज्य में भूकंप से मरने वालों का आंकड़ा 50 पहुँच गया है.

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SAHAI

मौसम विभाग के अनुसार बिहार में रविवार दोपहर तक भूकंप के 37 झटके आ चुके हैं.

भूकंप की चपेट में प्रदेश के 14 ज़िले आ गए हैं. मोतिहारी में सबसे अधिक आठ लोगों की मौत हुई है. जबकि, दरभंगा और सीतामढ़ी में छह- छह मौतें हुई हैं.

इसके अलावा सहरसा, सुपौल, कटिहार, गया, सिवान, लखीसराय, बेतिया, अररिया, शिवहर, सारण और मधुबनी में भी लोगों की जानें गई हैं.

स्थानीय संवाददाता नीरज सहाय के मुताबिक रविवार को भूकंप के झटकों के बाद पटना में लोग घरों से बाहर निकल आए.

दानापुर से आए विनोद कुमार ने नीरज सहाय को बताया, " हम भूकंप के बाद एकोपार्क में आ गए थे. अगर भूकंप की आशंका बनी रहेगी तो हम घर ही नहीं जाएंगे."

पटना के ही आशीष विजय ने कहा, "हम मैदान में ही रह रहे हैं, शाम को घर जाकर देखेंगे. यदि भूकंप के ऑफ्टर शॉक की आशंका बताई गई तो हम मैदान में ही रहेंगे."

स्कूलों की छुट्टी

बिहार सरकार ने सभी सरकारी और ग़ैर-सरकारी स्कूलों को 27 और 28 अप्रैल को बंद रखने का निर्देश दिया है.

भूकंप पीड़ित परिवारों को राज्य सरकार ने चार लाख तो केंद्र सरकार ने दो लाख रुपए मुआवज़ा देने की घोषणा भी की है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन की उच्चस्तरीय टीम के साथ बैठक कर सभी मंत्रियों को उनके जिले में जाने का आदेश दिया.

सीमावर्ती इलाकों में नेपाली और भारतीय नागरिकों की सहायता के लिए बेस कैंप और मेडिकल टीमें भेजी गई हैं.

कोलकाता में मेट्रो सेवा रुकी

इमेज कॉपीरइट prabhat verma

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता समेत पूरे राज्य में भूकंप के झटके महसूस किए गए.

हालांकि रविवार होने की वजह से ज्यादातर दफ्तर बंद थे, लेकिन बाज़ारों, शापिंग मॉल्स और बहुमंज़िला इमारतों में लोगों में दहशत देखी गई.

स्थानीय संवाददाता पीएम तिवारी के मुताबिक़ कोलकाता में मेट्रो सेवा भी रोकी गई.

सिलीगुड़ी, मालदा, दार्जिलिंग और बर्दवान जैसे शहरों में भी झटके महसूस किए गए.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को राज्य में भूकंप से मरने वाले लोगों के परिजनों से मुलाक़ात की.

लखनऊ में भी झटके

इमेज कॉपीरइट prabhat verma

उत्तर प्रदेश के लखनऊ, कानपुर, उन्नाव, मुरादाबाद, आगरा, वाराणसी, ग़ाज़ियाबाद, पीलीभीत और कुशीनगर में भूकंप के झटके महसूस किए गए.

लखनऊ में भूकंप की तीव्रता 5.6 आंकी गई. सुबह 5 बजे के आसपास भी कुछ झटके महसूस किए गए थे.रविवार को आए भूकंप में किसी के मरने की खबर नहीं है.

हालाँकि आगरा, उन्नाव और कई अन्य स्थानों पर इमारतों को नुकसान पहुंचने की ख़बरें हैं.

इलाहाबाद में प्रशासन ने किसी अनहोनी से बचने के लिए सभी शॉपिंग माल और सिनेमाघर बंद कर दिए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार