नेपाल में जब सबसे बड़ा ऑफ़्टर शॉक आया...

नेपाल में ताज़ा भूकंप इमेज कॉपीरइट Reuters

शनिवार को नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप के बाद आज फिर एक बड़ा भूकंप आया है. ताज़ा भूकंप के बाद सावधानी बरतते हुए भारत सरकार ने काठमांडू भेजे जा रहे सभी काफ़िलों को शाम चार बजे तक के लिए रोक दिया है.

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता सिताशूं कर ने ट्वीट कर ये जानकारी दी. वहीं नेपाल में भूकंप के बाद फंसे विेदेशी सैलानियों की सुविधा के लिए भारत सरकार ने तुरंत ग्रेटिस वीज़ा उपलब्ध कराने के आदेश दिए हैं. भारत के गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने ये जानकारी दी है.

भारत के प्रधानमंत्री कार्यालय के मुताबिक प्रधानमंत्री ने भूकंप के बाद के हालात पर चर्चा के लिए आज शाम साढ़े तीन बजे एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है.

दहशत

इमेज कॉपीरइट AP

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक ताज़ा झटके से काठमांडू में लोग दहशत में आ गए और चिल्लाते हुए सड़कों पर निकल आए.

काठमांडू से ऋष्टि ने ट्वीट किया, "हम सभी पड़ोसी मेरे घर के बाहर इकट्ठा हैं. एक दूसरे को ढांढस बंधा रहे हैं. हे ईश्वर. कृपया सभी घरों के बाहर रहें, सुरक्षित रहें."

इमेज कॉपीरइट Shristi Mainali
Image caption ऋष्टि ने कोटेश्वर काठमांडू से ये फ़ोटो भेजी है. ताज़ा भूकंप के बाद लोग दहशत में हैं. साथ ही एकजुट भी.

बीबीसी के दक्षिण एशिया संवाददाता जोनाथन हेड ने ट्वीट किया, "काठमांडू एयरपोर्ट पर विमान में फंसा हूँ. ताज़ा झटके के बाद एयर ट्रैफ़िक कंट्रोल खाली करा लिया गया है. इससे पहले थाई एयरवेज़ का एक विमान नेपाल के प्रधानमंत्री सुशील कोइराला को बैंकॉक से वापस लाया है."

6.7 तीव्रता का भूकंप

Image caption कल आए भूकंप के बाद से ही नेपाल में लोग दहशत में थे.

अमरीकी भूविज्ञान केंद्र के मुताबिक 6.7 तीव्रता के इस भूकंप का केंद्र नेपाल के कोदारी से 17 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में है.

शनिवार को दो बड़े झटके महसूस किए गए जिनका केन्द्र नेपाल के लमजुंग में था. इन भूकंपों से नेपाल में बड़ी तबाही हुई है.

आज का बड़ा झटका नेपाल के समय के मुताबिक 12 बजकर 39 मिनट पर आया है जबकि कल 7.8 तीव्रता का पहला बड़ा झटका 11 बजकर 41 मिनट पर आया था.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption कल आए भूकंप में मरने वालों की संख्या उन्नीस सौ से ज़्यादा हो गई है.

लगातार झटके

नेपाल में शनिवार रात हर 15-20 मिनट पर कई और झटके महसूस किए गए. आज सुबह क़रीब नौ बजे भी एक बड़ा झटका महसूस किया गया था.

सोशल मीडिया पर आ रही टिप्पणियों के मुताबिक ये झटका बांग्लादेश की राजधानी ढाका में भी महसूस किया गया.

उत्तर भारत के तमाम शहरों में भी लोगों ने इस झटके को महसूस किया. दिल्ली में भी लोग दफ़्तरों के बाहर निकल आए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)