बाबा की बेटे वाली बूटी संसद पहुँची

केसी त्यागी पुत्रजीवक बीज क पैकेट दिखाते हुए इमेज कॉपीरइट PTI

बाबा रामदेव की कंपनी दिव्य फ़ार्मेसी की एक दवा पर राज्यसभा में जम कर हंगामा हुआ.

दरअसल रामदेव की दिव्य फ़ार्मेसी एक दवा बनाती है, जिसका नाम है 'पुत्रजीवक बीज'. विपक्ष का आरोप है कि ये दवा लड़का पैदा करने का दावा करती है और इस पर तत्काल रोक लगाई जानी चाहिए.

विपक्ष का कहना है कि यह दवा न केवल अवैध है, वरन् असंवैधानिक भी है. विपक्ष ने इस दवा को बनाने वालों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

लेकिन रामदेव ने इस मामले पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि इस दवा का लड़का पैदा करने से कोई संबंध नहीं है और पुत्रजीवक आयुर्वेदिक नाम है.

मामला

राज्यसभा में ये मामला तब उठा, जब जनता दल (यूनाइटेड) के केसी त्यागी ने 'पुत्रजीवक बीज' नामक दवा का पैकेट दिखाया और बताया कि यह दिव्य फ़ार्मेसी से ख़रीदा गया है. उन्होंने कहा कि यह दवा लड़का पैदा करने का दावा करती है.

इमेज कॉपीरइट Other

उन्होंने ख़रीद की रसीद भी सदन के दिखाई जिस पर 14 अप्रैल की तारीख छपी थी. उन्होंने कहा कि 'हरियाणा राज्य में ब्रांड अंबैसेडर' का इस दवा को बेचना अवैध और असंवैधानिक है.

कार्रवाई

केसी त्यागी ने योगगुरू का नाम न लेते हुए पूछा कि "क्या नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार इसका समर्थन करती है."

समाजवादी पार्टी की जया बच्चन ने पैकेट स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को दिया.

सदन में कई अन्य नेता भी इसका विरोध करते और इस पर रोक की मांग करते नज़र आए.

इमेज कॉपीरइट PTI

उप-सभापति पीजे कुरियन ने कहा कि किसी लिंग के बच्चे के जन्म के लिए ख़ास दवा या जन्म से पू्र्व लिंग का पता लगाना क़ानून और संविधान के ख़िलाफ़ है, लेकिन इस पर सदन कोई कार्रवाई नहीं कर सकता.

विपक्ष की ओर से कड़ी कार्रवाई की मांग के बीच नड्डा ने कहा कि यह मुद्दा आयुष विभाग से संबंधित है. उन्होंने कहा है "सरकार इस मामले पर नज़र रखेगी और उचित कदम उठाएगी."

उन्होंने इसे गंभीर मुद्दा बताते हुए कहा "सरकार लिंग-अनुपात को लेकर गंभीर है".

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री स्वयं 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान पर नज़र रखते हैं.

रामदेव ने किया खंडन

इमेज कॉपीरइट AFP

रामदेव ने एक ट्वीट के ज़रिए इस मामले पर स्पष्टीकरण दिया है और कहा है कि 'पुत्रजीवक' आयुर्वेदिक नाम है और संतानहीनता की समस्या के समाधान के लिए इस्तेमाल किया जाता है और इसका किसी ख़ास लिंग के चुनाव के साथ कोई संबंध नहीं.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार पतंजलि योगपीठ ने कहा है कि हिंदी में दवा का नाम 'पुत्रजीवक' जबकि इसका बॉटनिकल नाम 'पुत्रजीवा रॉक्सबर्घी' है.

इमेज कॉपीरइट Other

दवा ऑनलाईन स्टोर अमेज़न पर भी उपलब्ध है.

सरकार कठघरे में

जावेद अख़्तर ने मज़ाक करते हुए कहा कि सरकार को पता लगान चाहिए कि देश में जन्म के पूर्व लिंग का पता लगाना ग़ैरक़ानूनी है भी या नहीं.

इमेज कॉपीरइट AFP

केसी त्यागी के कई पैकट निकालने पर भाजपा के मुख़्तार अब्बास नकवी ने उनसे पूछा, "आपके पास कितने पैकेट हैं."

जया बच्चन ने मांग की कि दिव्या फ़ार्मेसी का लाइसेंस रद्द किया जाए और इस उत्पाद के बाज़ार में बेचे जाने पर रोक लगाई जए. उन्होंने सवाल किया कि सरकार इस पर कोई आश्वासन क्यों नहीं दे सकती.

इमेज कॉपीरइट PTI

कांग्रेस से सांसद और राज्यसभा में विपक्ष के नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि हरियाणा, पंजाब और दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में लिंग अनुपात पहले ही चिंता का विषय है और ऐसे में इस तरह के उत्पादों की बिक्री पर रोक लगाई जानी चाहिए और दोषी लोगों को सज़ा मिलनी चाहिए.

तृणमूल कांग्रेस के सुखेंदु शेखर रॉय ने भी मांग की कि इसकी बिक्री पर रोक लगाई जाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार