नेताजी जासूसी मामला: 'नहीं होगी जांच'

नेताजी बोस इमेज कॉपीरइट Netaji Research Bureau

केंद्र सरकार नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवार की 20 वर्षों तक जासूसी होने से जुड़ी रिपोर्टों की जांच का कोई इरादा नहीं रखती है.

गृह राज्य मंत्री हरिभाई चौधरी ने मंगलवार को लोकसभा में बताया, "जासूसी की जांच करने का कोई प्रस्ताव नहीं है."

हालांकि उन्होंने कहा कि नेताजी से संबंधित बहुत सी फाइलों को गोपनीय दस्तावेजों की सूची से हटा कर उन्हें राष्ट्रीय अभिलेखागार में भेज दिया गया है.

हाल ही में इन रिपोर्टों पर काफी विवाद हुआ था कि जवाहर नेहरू सरकार के दौरान बीस साल तक नेता जी के परिवार को खुफ़िया निगरानी में रखा था.

इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी हालिया जर्मनी यात्रा में नेताजी के भतीजे सूर्या बोस से मिले थे.

मुलाकात के बाद सूर्या बोस ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें आश्वस्त किया है कि वे इस निगरानी और फाइलों को सार्वजनिक करने के मुद्दे पर विचार करेंगे.

चौधरी ने बताया कि बोस से जुड़ी कुछ गोपनीय फाइलें केंद्र सरकार के पास है तो कुछ पश्चिम बंगाल सरकार के पास.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार