लालू मेरे मालिक नहीं: पप्पू यादव

इमेज कॉपीरइट MANISH SHANDILYA

राष्ट्रीय जनता दल ने अपने सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निष्काषित कर दिया है.

बीबीसी से बात करते हुए पप्पू यादव ने कहा है कि पुत्र और परिवार को आगे बढ़ाने के लिए लालू यादव ने उन्हें बलि का बकरा बनाया है.

उनका कहना था, "मुझे एक बात समझ में नहीं आती कि ये कैसा फ़ैसला है! एक तरफ़ सामाजिक न्याय की ताक़त को आप मज़बूत करना चाहते हैं, विलय करके सांप्रदायिकता को रोकना चाहते हैं. दूसरी तरफ़ लोकतांत्रिक विचारधारा की बात आती है हो तो आपको अच्छा नहीं लगता है."

पप्पू यादव को पार्टी से निकाला गया

लालू यादव पर सवाल उठाते हुए पप्पू यादव ने कहा, "लालू जी को अपने पुत्र को आगे बढ़ाना है और यही कारण है हमें आगे नहीं बढ़ाया गया. आप बताइए कि कौन रोक सकता है उनके पुत्र को बढ़ने से. राम विलास पासवान के पुत्र को कौन रोक सका, मुलायम सिंह के पुत्र को कौन रोक सका, राहुल को प्रधानमंत्री बनने से कोई रोक देगा? क्या आडवाणी रोक पाए मोदीजी को?"

'लालू मेरे मालिक नहीं'

पप्पू यादव ने कहा कि उन्हें सिर्फ़ इसलिए रोका गया कि वे बिहार के लोगों की आवाज़ बन रहे थे और लोग उन पर भरोसा करने लगे थे.

आगे की रणनीति क्या है इस पर पप्पू यादव ने कहा कि जनता उनके लिए सर्वोपरि है और लालू यादव उनके मालिक नहीं हैं.

उनका कहना था कि आगे क्या होगा ये जनता तय करेगी.

इससे पहले बीबीसी से बातचीत में पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव रामदेव भंडारी ने कहा था कि दल विरोधी गतिविधियों और अनुशासनहीनता के कारण पप्पू यादव को पार्टी से निकाला गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार