लड़की देखने को बुलाया और पहना दी हथकड़ी

दुल्हन इमेज कॉपीरइट n

मध्यप्रदेश के बहुचर्चित व्यापम घोटाले से जुड़े एक व्यक्ति की स्पेशल टास्क फ़ोर्स एसआईटी को लंबे समय से तलाश थी. वह चकमा दे रहा था और हाथ नहीं लग रहा था.

लिहाज़ा एसआईटी ने दिमाग लड़ाया. उसने पहले शादी की बात चलाई और फिर लड़की दिखाने के बहाने बुलाया.

अभियुक्त तुरंत आ गया. लड़की तो थी नहीं, हथकड़ी थी. अब जनाब हवालात में हैं.

व्यापम घोटाले में करीब 1800 लोग जेल में बंद हैं और लगभग 800 लोगों की तलाश मुख्य जांच एजेंसी एसटीफ़ कर रही है.

पुलिस को थी तलाश

इमेज कॉपीरइट RIA Novosti

एसआईटी इंदौर को कानपुर के अंबेडकर नगर निवासी 28 वर्षीय बृजेश अग्रहरि पुत्र रामाशीष की तलाश थी.

इंदौर के सीएसपी अजय जैन के मुताबिक़, ख़बर मिली थी कि बृजेश कानपुर में रहकर पीएमटी की तैयारी कर रहे हैं.

पुलिस का दावा है कि बृजेश पीएमटी परीक्षाओं में प्रश्नों के उत्तर देने में माहिर थे और इस तरह परीक्षार्थियों की मदद करते थे.

पुलिस के अनुसार, बृजेश को पकड़ने के लिए उनसे रिश्ते की बात चलाई गई. दहेज में मोटी रकम देने का लालच दिया गया.

बात आगे बढ़ी और लड़की को दिखाने और रस्म पूरी करने का मौका आ गया.

शादी के बहाने

बृजेश जिस रेस्टोरेंट में अकसर जाया करते थे, फ़ोन करके उन्हें वहीं आमंत्रित किया गया. एसआईटी ने अपना वाहन भेजकर उन्हें बुलवाया.

एसआईटी के एडिशनल एसपी देवेन्द्र पाटीदार कहते हैं, " ये व्यक्ति पकड़ में नहीं आ रहा था. चूंकि वह अविवाहित था, इसलिए शादी के बहाने ट्रैप करने में आसानी हो गई."

पाटीदार के मुताबिक़, एसआईटी की टीम कानपुर गई. वहां इस ट्रिक को अपनाया और टास्क सफल हो गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार