छत्तीसगढ़ः 18 किसानों को जेल

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

छत्तीसगढ़ के बस्तर में फ़र्ज़ी तरीक़े से धान बेचने के आरोप में 18 किसानों को जेल भेज दिया गया है.

बस्तर के नगरनार स्टील प्लांट के नजदीक धनपुंजी इलाक़े के इन किसानों पर उत्पादन से कई गुना अधिक मात्रा में धान बेचने का आरोप है.

नगरनार के थाना प्रभारी अब्दुल क़ादिर का कहना है, “इस मामले में 20 किसानों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था, जिसके बाद इन किसानों ने आत्मसमर्पण किया. फिर अदालत के आदेश पर इनमें से 18 को जेल भेज दिया गया.”

नगरनार वह इलाका है जहां पिछले बीस सालों से भी अधिक समय से स्टील प्लांट के लिए किसानों की ज़मीन को लेकर विवाद और संघर्ष चलता रहा है.

कम दामों पर लाएं ...

होता है कि लोग दूसरी जगहों से जहां कम दामों पर अनाज मिल रहा है उसे ख़रीद लाते हैं. जब जब आपके सूबे में उसका सरकारी ख़रीद दाम अधिक हो.

फिर उसे सरकार को बेच दिया जाता है.

इमेज कॉपीरइट RAVINDER SINGH ROBIN

धनपुंजी के 20 किसानों पर 44.35 हेक्टेयर खेती की ज़मीन से 5300 क्विंटल से अधिक धान राज्य सरकार को बेचने और सरकार से समर्थन मूल्य व बोनस पाने का आरोप था.

किसानों ने जितनी ज़मीन पर यह उत्पादन दिखाया था, वह वास्तविक उत्पादन से कई गुना अधिक था.

वैसे तो फर्जी तरीके से धान बेचने के कई मामले छत्तीसगढ़ में सामने आए हैं लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है कि किसानों के खिलाफ इतनी बड़ी कार्रवाई की गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )